PGT ka full form, योग्यता, सिलेबस, पैटर्न, कैसे बने, सैलरी

PGT Kya Hai: PGT का मतलब है पोस्ट ग्रेजुएट टीचर हिंदी में जिसे परास्नातक या स्नातकोत्तर शिक्षक के नाम से जाने जाते है। जो इंटर कॉलेज यानी 11वीं और 12वीं कक्षा की विद्यार्थियों को पढ़ाते है।

अगर आप भी जानना चाहते है कि पोस्ट ग्रेजुएट टीचर कौन बन सकते है, इसके लिए योग्यता क्या होनी चाहिए, पीजीटी का सिलेबस और पैटर्न कैसा रहेगा, पीजीटी का पेपर कैसे आता है, कितने अंक की परीक्षा होगी, चयन प्रक्रिया क्या है, PGT टीचर की सैलरी कितनी होती है, आदि तो इस लेख को ध्यानपूर्वक पढ़े।

PGT ka full form

PGT का पूरा नाम है “Post Graduate Teacher” हिंदी में जिसका मतलब है परास्नातक शिक्षक, इसे कॉलेज प्रवक्ता के नाम से भी जाने जाते है। PGT टीचर का काम होता है 11वीं तथा 12वीं के विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान करना।

पीजीटी शिक्षक बनने के लिए उम्मीदवारों को अपने मन पसंद किसी विष्यय लेकर पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री प्राप्त करना होता। इसके बाद पीजीटी एग्जाम के माध्यम से परास्नातक शिक्षक के रूप में नियुक्त हो सकते है।

आशा करते है PGT क्या है और PGT का फूल फॉर्म क्या होता है इसके बारे में आपको थोड़ा जानकारी प्राप्त हो गई होगी। अब आइए जानते है PGT के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए।

PGT ka full form,PGT kya hai

PGT kya Hai

पोस्ट ग्रेजुएट टीचर यानी परास्नातक शिक्षक की एग्जाम उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड द्वारा आयोजित किया जाता है। इस एग्जाम की माध्यम से 11वीं तथा 12वीं की प्रवक्ताओं का चयन किया जाता।

इस एग्जाम में टोटल 125 सवाल पूछे जाते है जिसकी कुल वैल्यू है 425 अंक। इसमें कोई नेगेटिव मेर्किंग नहीं होते और सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होते है।

इसमें सफल होने वाले उम्मीदवारों को पीजीटी टीचर के रूप में सरकारी स्कूलों में नौकरी करने का मौका प्राप्त होती है। पीजीटी टीचर की सैलरी हर महीने ₹47,600 से ₹1,51,000 तक होती है।

PGT के लिए क्वालिफिकेशन

पोस्ट ग्रेजुएट टीचर बनने के लिए उम्मीदवारों के पास कुछ आवश्यक पात्रता होनी चाहिए जो आप निम्नलिखित बिंदुओं में देख सकते है;

• अपने मन पसंद किसी सब्जेक्ट लेकर उम्मीदवारों को स्नातकोत्तर डिग्री हासिल करना होगा। पोस्ट ग्रेजुएशन में आप अपने अनुसार बीए/बीएससी/बीकॉम स्ट्रीम में से कोई भी एक विष्यय चुन सकते है।

• सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन में न्यूनतम 50 प्रतिशत नंबर प्राप्त करना अनिवार्य है। आरक्षण वर्ग के उम्मीदवारों के लिए नियमानुसार 5 प्रतिशत नंबर की छूट मिलती है।

• पीजीटी टीचर बनने के लिए उम्मीदवारों का न्यूनतम आयु 21 वर्ष होना चाहिए। वहीं सर्वाधिक आयु में कोई सीमा नहीं होता पर कुछ केंद्रीय विद्यालय आदि में सर्वाधिक आयु 40 वर्ष तक ही होता है।

• आरक्षण वर्ग के अभ्यर्थी यदि किसी दूसरे राज्य के पीजीटी टीचर बनने के लिए प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लेते है तो उन्हें सामान्य वर्ग की तरह ट्रीट किया जाएगा।

• उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में पीजीटी टीचर बनने के लिए बीएड डिग्री का होना आवश्यक नहीं। लेकिन हां, यदि कोई बीएड करते है तो उन्हें एक्स्ट्रा अंक प्राप्त होती है।

PGT का सिलेबस

किसी भी एग्जाम में सफल होने के लिए उसके सिलेबस के बारे में विस्तार से जानना चाहिए। अगर एग्जाम की सिलेबस और पैटर्न के बारे में जानकारी नहीं होगी तो एग्जाम में सफल होना लगभग असंभव हो जाएगा। इसलिए सिलेबस के बारे में जानना बहुत ही जरूरी है।

पीजीटी का सिलेबस के बारे में बात करे तो आप जिस विष्यय का शिक्षक बनना चाहते है और जिस विषय से अपने पोस्ट ग्रेजुएशन की है उसी विष्यय के अनुसार सवाल पूछा जाएगा। इसमें कुल 125 सवाल पूछा जाएगा जिसके लिए टोटल 425 अंक मिलेगी यानी प्रत्येक सवाल के लिए 3.4 अंक है।

यह एग्जाम 2 घंटे की होती है। इसमें सभी बहुविकल्पीय सवाल पूछे जाते है। जिसमे चार ऑप्शन रहते है, उंसमे से आपको सही जवाब का चयन करना होता। इसमें कोई नेगेटिव मेर्किंग नहीं होते यानी अगर कोई जवाब गलत हो जाते है तो उसके लिए कोई अंक नहीं काटा जाएगा।

UP PGT Exam Pattern

यहां हमने यूपी पीजीटी एग्जाम की पैटर्न के बारे में विस्तार से चर्चा की है;

लिखित परीक्षा415 अंक85 प्रतिशत वेटेज
साक्षात्कार:          i. जनरल नॉलेज – 4%         ii. पर्सनालिटी टेस्ट – 3%        iii. एक्सप्रेसिवेनेस – 3%50 अंक10 प्रतिशत वेटेज
स्पेशल क्वालिफिकेशन (पीएचडी, एमएड, बीएड, अंतरराष्ट्रीय स्तर की खेल भागीदारी, आदि)25 अंक5 प्रतिशत वेटेज
टोटल500 अंक100 प्रतिशत वेटेज

इस एग्जाम में कुलमिलाकर 125 सवाल पूछे जाते है, प्रत्येक सवाल के लिए 3.4 अंक मिलता है। यानी लिखित परीक्षा टोटल 425 अंक का होता, जिसमे सभी सवाल बहुविकल्पीय होती है। इसमें कोई नेगेटिव मेर्किंग नहीं होते।

लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले उम्मीदवारों को साक्षात्कार ले लिए बुलाया जाता है जिसके लिए टोटल 50 अंक मिलते है। इसमें जनरल नॉलेज, पर्सनालिटी टेस्ट तथा, प्रजेंस ऑफ माइंड, एक्सप्रेसिवेनेस, आदि को परखा जाता है।

पीजीटी की चयन प्रक्रिया में लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के अलावा स्पेशल क्वालिफिकेशन के लिए 10 अंक 25 अंक होते है। अगर कोई उम्मीदवार के पास पीएचडी, एमएड, बीएड डिग्री है तो उन्हें कुछ अंक अतितिक्त मिलते है, इसके अलावा अगर कोई उम्मीदवार अंतरराष्ट्रीय स्तर की खेल भागीदारी है तो उन्हें भी यह सुविधा प्राप्त होती है।

PGT kaise Bane

यदि आपका सपना पीजीटी टीचर बनने का है तो आपका यह ख्वाहिश निम्नलिखित तरीके से साकार कर सकते है;

• आपको जिस विषय मे दिलचस्पी है उस विषय से ग्रेजुएशन पूरा करना होगा।

• इसके बाद उसी विषय से स्पेशलाइजेशन करने के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री प्राप्त करना होगा।

• अब आप चाहे तो पोस्ट ग्रेजुएशन के पश्चात पीएचडी/एमएड/बीएड जैसे डिग्री कर सकते है। अगर आपके पास यह डिग्री होंगे तो पीजीटी की चयन प्रक्रिया में आपको अतितिक्त अंक मिलेगा।

• इसके बाद जब पीजीटी की भर्ती के लिए फॉर्म निकले तब फॉर्म भर देना है।

• पीजीटी की सिलेबस और एग्जाम पैटर्न को अच्छे से समझे।

• अब पीजीटी एग्जाम के लिए तैयारी करनी है। इसके लिए आप घर पर खुद से तैयारी कर सकते है अन्यथा किसी इंस्टीट्यूट से भी जुड़कर तैयारी कर सकते है।

• नए नए टॉपिक पढ़ने के साथ साथ रिवीजन भी कीजिये। इससे पढ़े हुए चैप्टर अच्छे से याद हो जाएगा।

• एग्जाम में समय बहुत महत्वपूर्ण होती है। इसलिए समय मैनेज करने के लिए ज्यादा से ज्यादा मॉक टेस्ट देने की कोशिश करे। और जहां जहां दिक्कत हो रहा है उसका मूल्यांकन करे। इससे गलती में सुधार होगी।

• पूरे दिनचर्या के लिए एक शेड्यूल तैयार कर लें।

आशा करते है यदि आप इन सभी पॉइंट्स को बारीकी से अनुसरण करेंगे और पूरी शिद्दत से मेहनत करेंगे तो पीजीटी टीचर बनने से आपको कोई रोक नहीं पायेगा।

PGT टीचर सैलरी

पीजीटी टीचर की सैलरी देखा जाए तो हर महीने ₹47,600 से ₹1,51,100 के बीच होती है। सुरु में पीजीटी टीचर की फीस 47,600 के आसपास होती है। इनके बाद जैसे जैसे समय बढ़ता है सैलरी बढ़कर ₹1,51,100 तक हो जाती है।

PGT kya Hai से जुड़े महत्वपूर्ण जानकारियां

• पीजीटी का पूरा नाम क्या है?

पीजीटी का पूरा नाम है पोस्ट ग्रेजुएट टीचर जिसे परास्नातक शिक्षक या प्रवक्ता के नाम से जाने जाते है। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड द्वारा इसकी चयन किया जाता है। जिनकी कार्य है 11वीं तथा 12वीं के विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान करना।

• पीजीटी के लिए बीएड जरूरी है क्या?

वैसे तो पीजीटी टीचर बनने के लिए बीएड की कोई आवश्यकता नहीं है पर अगर किसी के पास बीएड डिग्री होंगे तो चयन प्रक्रिया में उन्हें कुछ प्रतिशत बोनस अंक प्राप्त होगी जो आपके चयन के लिए फायदेमंद साबित होगा।

• पीजीटी परीक्षा किसके लिए है?

पीजीटी परीक्षा उन उम्मीदवारों के लिए है जो 11वीं तथा 12वीं लेवल की शिक्षक बनने का रुचि रखते है।

• पीजीटी परीक्षा की योग्यता क्या है?

पीजीटी परीक्षा के लिए कुछ योग्यता होने की आवश्यकता नहीं है। आप जिस विषय मे प्रवक्ता बनना चाहते है उसी विषय से स्नातकोत्तर डिग्री हासिल करना होगा। इसके अलावा उम्मीदवारों का न्यूनतम आयु आवेदन करने से पहले 21 वर्ष हो जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त कुछ खास क्वालिफिकेशन होने की जरूरत नहीं।

• पीजीटी का पेपर कैसे आता है?

पीजीटी की परीक्षा पेन और पेपर मूड में लिया जाता है। इसमें टोटल 125 सवाल की लिखित परीक्षा होती है। जिसमे सारे के सारे सवाल बहुविकल्पीय होते है।

प्रत्येक सवाल के लिए 3.4 अंक मिलते और कुल 425 अंक का लिखित परीक्षा होता। इसके अतिरिक्त 50 अंक की साक्षात्कार होते और 25 अंक एक्स्ट्रा क्वालिफिकेशन के लिए मिलते।

• क्या पीजीटी एग्जाम में नेगेटिव मेर्किंग होती है?

दूसरे किसी प्रतिस्पर्धा परीक्षा की तरह पीजीटी एग्जाम में किसी प्रकार की कोई नेगेटिव मेर्किंग नहीं होते। अगर जवाब देते समय आप गलत जवाब दे देते है तब भी कोई अंक नहीं काटा जाता।

• पीजीटी का फॉर्म कब आएगा?

यह कहना संभव नहीं है कि पीजीटी का फॉर्म कब आएगा। लेकिन हां, जब सरकार को रिक्त पद नजर में आते है जब इसके लिए भर्ती निकाली जाती है। इसके फॉर्म और नियुक्तियां से जुड़े अपडेट के लिए आप उत्तर प्रदेश सरकार की इस ऑफिशियल वेबसाइट (http://www.upsessb.org/) को फॉलो कर सकते है।

निष्कर्ष: आज की इस लेख में हमने PGT ka full form, PGT kya Hai, पीजीटी के लिए योग्यता, पीजीटी की सिलेबस और एग्जाम पैटर्न, पीजीटी टीचर की सैलरी, पीजीटी टीचर की चयन प्रक्रिया, इत्यादि के बारे में विस्तार से चर्चा की है।

इस लेख में हमने पीजीटी के बारे में जितनी हो सके उतनी बताने की कोशिश की है। फिरभी यदि कोई पॉइंट हम से छूट गई है तो कृपया कमेंट सेक्शन में उल्लेख करें ताकि दूसरे विद्यार्थियों को भी उसके बारे में पता चले।

और कृपया आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करे एबं हमारे ऑफिशियल टेलीग्राम चैनल से जुड़े जहां एजुकेशन से जुड़े नए नए जानकारियां आपको प्राप्त होती रहेगी।

यह पढ़े:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *