Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

MLT Course Details,योग्यता, फीस,एडमिशन,स्कोप,नौकरी,सैलरी

किसी भी मरीजों की रोग डियग्नोसिस, प्रतिरोध और चिकित्सा करने में मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नीशियन का भूमिका महत्वपूर्ण होता है। उनके द्वारा की गई क्लीनिकल लेबोरेटरी टेस्ट के द्वारा ही डॉक्टर मरीजों का चिकित्सा करके उसे ठीक करता है।

समय के साथ साथ वातावरणीय परिवर्तन हो रहा है, प्रदूषण की मात्रा भी बढ़ रही है, और इसके साथ साथ मनुष्यों का खानपान में भी अंतर नजर आ रहा है। इसके चलते मनुष्य शरीर कई तरह के रोगों से संक्रमित हो रही है।

जिसकी डियग्नोसिस और ट्रीटमेंट करने में डॉक्टरों को क्लीनिकल डियग्नोसिस रिपोर्ट की आवश्यकता पड़ती है, और इन रिपोर्ट्स को तैयार करने का काम करता है लैब टेक्नीशियन जो MLT course की पढ़ाई करते है।

यदि आप भी मेडिकल क्षेत्र की इस बढ़ती हुई मांग को देखते हुए एम.एल.टी कोर्स में अपना करियर बनाने का सपना देख रहे है तो आप बिलकुल सही जगह पर आए है। इस लेख में हम MLT Course Details के बारे में चर्चा करेंगे ताकि आपको एम.एल.टी कोर्स के बारे में पूरी जानकारी मिल सके।

MLT Course Details in Hindi

12वी में साइंस लेकर पढ़ाई करने वालों के लिए MLT एक बेहतरीन मेडिकल कोर्स है। इसके अंतर्गत सी.एम.एल.टी, डी. एम.एल.टी, बी.एम.एल.टी जैसे कई सारे डिग्रीयां है जिसे पूरा करने के पश्चात लैब टेक्नीशियन का सर्टिफिकेट प्राप्त होता है।

MLT course details, MLT course details in hindi, MLT kya hai
MLT Course Details

MLT kya Hai

MLT का पूरा नाम है Medical Laboratory Technology, हिंदी में जिसे “चिकित्सा प्रयोगशाला प्रौद्योगिकी” कहते है। यह एक पैरामेडिकल कोर्स है। इंसमे विद्यार्थियों को ह्यूमन एनाटोमी, बायोकेमिस्ट्री, माइक्रो बायोलॉजी, वायरोलॉजी, फिजियोलॉजी, पैथोलॉजी जैसे सब्जेक्ट्स के बारे में ज्ञान प्रदान की जाती है ताकि पेशेवर लैब टेक्नीशियन तैयार किया जा सके।

जिनका काम होता है मरीजों की बीमारियों का जांच करना, उनके शरीर का फ्लूइड, खून, पेशाब, स्टूल, टिश्यू, इत्यादि का इस्तेमाल करके और उसी के मुताबिक डियग्नोसिस रिपोर्ट तैयार करना, जिसके सहायता से डॉक्टर मरीजों को सही ट्रीटमेंट प्रदान कर सके।

एम एल टी का कोर्स करने के लिए विद्यार्थियों को 10+2 की पढ़ाई करनी चाहिए और उंसमे साइंस का स्ट्रीम होना अनिवार्य है। एम.एल.टी के अंतर्गत सर्टिफिकेट, डिप्लोमा, अंडरग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट जैसे डिग्रीयां उपलब्ध है, जिसकी एडमिशन हेतु ज्यादातर कॉलेज में एंट्रेंस एग्जाम आयोजित किया जाता है। इसके अलावा इंसमे डायरेक्ट और मेरिट के आधार पर भी एडमिशन मिलता है।

MLT Course Details

Certificate in Medical Laboratory Technology (CMLT): सर्टिफिकेट इन मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी छह महीने से एक साल की एक सर्टिफिकेट डिग्री होती है, जिसमे MLT कोर्स के बेसिक जानकारियां प्रदान की जाती है ताकि ऐसे उम्मीदवार सीनियर लैब तकनीशियन को सहायता कर सके।

इसकी पढ़ाई के लिए उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10वी या उसके समकक्ष कोई कोर्स करना होता। ज्यादातर कॉलेजों में CMLT कोर्स के लिए डायरेक्ट एडमिशन लिया जाता है। कुछ कॉलेज ऐसा है जो 10वी में प्राप्त नंबर के आधार पर एडमिशन करवाते हैं।

सी.एम.एल.टी कोर्स के बारे में अच्छे से जानने के लिए यहां क्लिक करे एबं CMLT Course के बारे में बारीकियों से जाने।

Diploma in Medical Laboratory Technology (DMLT): डिप्लोमा इन मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी एक डिप्लोमा कोर्स है जो पूरा होने में ढाई साल लगता है। इंसमे कुल चार सेमेस्टर होते जो छह माह के अंतर कॉलेज द्वारा आयोजित किया जाता है।

DMLT कोर्स में एडमिशन के लिए उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वी पास करना होता या उसके समकक्ष कोई कोर्स करना होता। 12वी में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी होनी चाहिए तब जाकर उम्मीदवारों को DMLT कोर्स करने का मंजूरी मिलती है।

इसके एडमिशन मुख्यतः एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से ली जाती है परंतु कुछ कॉलेज में मेरिट के आधार पर भी एडमिशन मिलता है। इसके एप्लीकेशन फॉर्म 12वी के फाइनल एग्जाम के पश्चात निकाली जाती है, जिसे कॉलेज के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर भरना होता।

ढाई साल की कोर्स पूरा होने के पश्चात मेडिकल क्षेत्र में सरकारी तथा प्राइवेट नौकरी करने का अवसर मिलना प्रारंभ हो जाते है। विदेशों में ऐसे उम्मीदवारों की मांग बहुत ज्यादा है, वहां पर ज्यादा सैलरी पैकेज प्रदान करके उम्मीदवारों पेशे के साथ नियुक्त किया जाता है।

अगर आपको डी.एम.एल.टी कोर्स के बारे में और भी अच्छे से जानना है तो इसे पढ़े; DMLT Course Details

Bachelor of Medical Laboratory Technology (BMLT): बैचलर ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी साढ़े तीन साल की बैचलर डिग्री है जिसमे छह सेमेस्टर देने पड़ते और बाकी के छह महीने इंटर्नशिप करना होता किसी सरकारी अस्पताल से।

इसके लिए विद्यार्थियों को फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी लेकर 10+2 पास करना होता किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से। जनरल वर्ग के विद्यार्थियों के लिए 10+2 में न्यूनतम 45 प्रतिशत नंबर प्राप्त करनी चाहिए, वही आरक्षण वर्ग के विद्यार्थियों को 5 नंबर की छूट दी जाती है।

इंडिया में ऐसे सैकड़ों कॉलेज और यूनिवर्सिटीज है जो एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से उम्मीदवारों को एडमिशन करवाते है। इसके अलावा कुछ यूनिवर्सिटीज में मेरिट के आधार पर एडमिशन मिलते है तो वही किसी किसी कॉलेज में पर्सनल इंटरव्यू लिया जाता है।

बैचलर ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी कोर्स में स्टूडेंट्स को ह्यूमन एनाटोमी, माइक्रो बायोलॉजी, पैथोलॉजी, ह्यूमन फिजियोलॉजी, हिस्टोपैथोलॉजी, हेल्थ एजुकेशन, इम्यूनोलॉजी, टॉक्सिकोलॉजी, जैसे सब्जेक्ट्स के बारे में थ्योरी तथा प्रैक्टिकल शिक्षा प्रदान की जाती है।

अगर आपको बी.एम.एल.टी कोर्स के बारे में और भी जानकारी बारीकियों से प्राप्त करनी है तो इसके बारे में हमने एक डिटेल्स आर्टिकल लिख रखे है, यहां क्लिक करके पढ़े BMLT Course के बारे में।

Bachelor of Science in Medical Laboratory Technology (Bsc.MLT): बहुत से स्टूडेंट्स को लगता है कि बी.एम.एल.टी और बीएससी.एमएलटी एक ही कोर्स है। परंतु ऐसा नहीं है दोनों अलग अलग कोर्स है हालांकि इंसमे पढ़ने वाले कुछ सब्जेक्ट्स और जॉब्स सेक्टर कुछ हदतक समान है।

बीएससी एमएलटी तीन साल की ग्रेजुएशन कोर्स है, जिसकी समयावधि है तीन साल। इंसमे कुलमिलाकर छह सेमेस्टर है जो हर छह माह के अंतराल में आयोजित किया जाता है।

इंसमे एडमिशन के लिए उम्मीदवारों को PCB या PCM स्ट्रीम से 12वी पास करनी चाहिए, हालांकि कुछ कॉलेज में सिर्फ PCB वालो को ही यह कोर्स करने का अवसर दिया जाता है। ज्यादातर कॉलेज और यूनिवर्सिटीज में मेरिट के आधार पर एडमिशन मिलता है।

ऐसे में 10+2 में प्राप्त नंबर के आधार पर मेरिट लिस्ट जारी किया जाता है। अगर उंसमे आपका नाम निकालता है तो दस्तावेजों की सत्यापन करके एडमिशन फीस जमा देने के पश्चात एडमिशन लेना होता।

बीएससी एमएलटी कोर्स करने के लिए उम्मीदवारों का आयु कम से कम 17 साल की होनी चाहिए। अगर किसी का आयु इससे कम है तो उसे इस कोर्स के लिए तब तक योग्य नहीं माना जायेगा जब तक वह 17 साल की न हो जाते है।

Master in Medical Laboratory Technology (MMLT): जो विद्यार्थी BMLT पूरा होने के पश्चात हायर स्टडी करना चाहते है उनके लिए MMLT एक बेहतरीन ऑप्शन है। यह दो साल की पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है जिसमे चार सेमेस्टर देने पड़ते।

इसके उम्मीदवारों को कम से कम बी.एम.एल.टी पूरा करना होता न्यूनतम 50 प्रतिशत नंबर से तभी एम.एम.एल.टी कोर्स करने का योग्यता हासिल होता। इस कोर्स में एडवांस लेवल की जानकारी प्रदान की जाती है ताकि कोर्स पूरा होने के पश्चात विद्यार्थी मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी में महारत हासिल कर सके।

ध्यान रहे, बी.एम.एल.टी के उम्मीदवारों के अलावा BOT  और BPT Course के विद्यार्थी भी इस कोर्स के लिए योग्य है। अगर कोई स्टूडेंट जो ग्रेजुएशन में बी.पी.टी या बी.ओ.टी की कोर्स किये है वह पोस्ट ग्रेजुएशन में MMLT का कोर्स कर सकते है।

Master of Science in Medical Laboratory Technology (Msc.MLt): एमएससी.एमएलटी एक पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री है जिसे बीएससी.एमएलटी के पश्चात किया जाता है। यह दो साल की कोर्स है, प्रत्येक साल में दो सेमेस्टर लिया जाता है यानी हर छह माह के अंतर में एक सेमेस्टर देने पड़ते।

एम.एल.टी की इस कोर्स में विद्यार्थी किसी एक विषय मे स्पेशलाइजेशन करके उंसमे निपुणता हासिल कर सकते है। उसके बाद मेडिकल क्षेत्र, रिसर्च एंड डेवलपमेंट, एजुकेशनल, फार्मास्यूटिकल, जैसे क्षेत्र में नौकरी करने का अवसर मिलता है।

ध्यान रहे इन सभी MLT Course के बाद आप और भी हायर स्टडी कर सकते है, इसके लिए बेस्ट एमएलटी कोर्स है एमफिल और पीएचडी इन एमएलटी।

MLT Course Eligibility (MLT कोर्स के योग्यता)

एम.एल.टी कोर्स के अंतर्गत कई सारे डिग्रीयां है जिसकी एलिजिबिलिटी भिन्न भिन्न है। कौन सी डिग्री के लिए क्या पात्रता होनी चाहिए उसके बारे में आगे चर्चा की गई है;

• अगर कोई MLT की सर्टिफिकेट कोर्स करते है तो उसे 10वी पास करना होगा किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से उसके बाद इंसमे दाखिला ले पाएंगे।

• डीएमएलटी करने वाले स्टूडेंट्स को फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी से 12वी पास करना होगा या उसके समकक्ष कोई कोर्स करना होगा। 12वी में विद्यार्थियों को कम से कम 45 प्रतिशत नंबर प्राप्त करना होता और उनके आयु न्यूनतम 17 साल होनी चाहिए।

• बीएमएलटी करने वाले उम्मीदवारों को फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय लेकर 10+2 पास करना होता, किसी किसी कॉलेजों में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोटेक्नोलॉजी लेकर 12वी पास करने वालो को भी बीएमएलटी करने का अवसर प्रदान किया जाता है।

इसके अलावा जो विद्यार्थी 10+2 के पश्चात डी.एम.एल.टी की हो वह भी बी.एम.एल.टी कर सकते है। ऐसे मामले में डीएमएलटी वालो को बीएमएलटी के दूसरे वर्ष में लेटरल एंट्री मिल जाता है।

• बीएससी एमएलटी की कोर्स करने के लिए उम्मीदवारों को 10+2 की पढ़ाई करनी होती PCB स्ट्रीम से, कुछ कॉलेज PCM वालों को भी एडमिशन दिया जाता है। इस कोर्स करने वालो की आयु न्यूनतम 17 साल की होनी चाहिए और कम से कम 45 प्रतिशत नंबर से 10+2 पास करना पड़ता है।

• एमएमएलटी कोर्स की पात्रता की बात करे तो उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से बीएमएलटी की कोर्स पूरा करना होता न्यूनतम 50 प्रतिशत नंबर से, आरक्षण वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 5 नंबर की छूट दी जाती है।

• अगर कोई स्टूडेंट ग्रेजुएशन में बीएससी.एमएलटी की पढ़ाई की है तो वह पोस्ट ग्रेजुएशन में एमएससी.एमएलटी की पढ़ाई कर सकते है। इसके अलावा कुछ कुछ कॉलेजों में बीएससी इन माइक्रोबायोलॉजी के स्टूडेंट्स को भी एमएससी.एमएलटी कोर्स करने का अवसर देते है।

MLT Course ki fees

CMLT कोर्स की फीस: CMLT एक सर्टिफिकेट कोर्स होने के नाते इसकी फीस कम होती है, आमतौर पर सी.एम.एल.टी कोर्स के फीस औसतन ₹7,000 से ₹30,000 तक होती है।

DMLT कोर्स की फीस: डी. एम.एल.टी कोर्स की फीस सरकारी कॉलेज में बहुत ही कम होती है परंतु प्राइवेट कॉलेज में इससे कई गुना अधिक फीस देने पड़ते। यदि औसतन फीस की बात करे तो ₹30,000 से ₹3,50,000 तक फीस लगते है।

BMLT कोर्स की फीस: बी.एम.एल.टी कोर्स फीस आमतौर पर औसतन ₹60,000 से ₹5,00,000 तक होती है।

Bsc MLT कोर्स की फीस: बीएससी.एमएलटी कोर्स में औसतन ₹50,000 से ₹4,50,000 तक फीस लग जाते है। यह रकम कॉलेज के हिसाब से भिन्न भिन्न होती है।

MMLT कोर्स की फीस: एम.एम.एल.टी एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है जिसकी औसतन फीस ₹60,000 से ₹5,00,000 तक होता है।

Msc MLT कोर्स की फीस: एमएससी.एमएलटी कोर्स की फीस सरकारी और निजी कॉलेजों में अलग अलग होती है, आमतौर पर एमएससी.एमएलटी कोर्स की औसतन फीस ₹30,000 से ₹3,00,000 तक होती है।

ध्यान रहे, यहां पर MLT कोर्स की जितने भी फीस बताई गई है यह कोई निश्चत राशि नहीं है, एक औसतन फीस बताई गई है। हर कॉलेज अपने अपने हिसाब से अपने रेपुटेशन और दूसरे फैक्टर्स को देखते हुए कोर्स की फीस तय करते है।

MLT Course ke Baad kya kare (Scope of MLT)

MLT Course के बाद उम्मीदवारों के सामने कई सारे मार्ग खुल जाता है कोई चाहे तो हायर स्टडी कर सकते है अन्यथा सरकारी या निजी क्षेत्र में नौकरी कर सकते है। अगर कोई एम.एल.टी के पश्चात नौकरी करना चाहे तो इन अस्पताल, नर्सिंग होम, रिसर्च एंड डेवलपमेंट, प्लब्लिक सेक्टर कंपनियों में निम्नलिखित पदों पर नौकरी कर सकते है। इसके अलावा खुद का डायग्नोसिस सेंटर भी खोल सकते है।

MLT के जॉब प्रोफाइल

• मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नीशियन
• फ्लेबोटोमिस्ट
• ब्लड बैंक टेक्नीशियन
• बायोकेमिस्ट टेक्नीशियन
• क्लीनिकल लेबोरेटरी टेक्नीशियन
• लैब टेक्नोलॉजिस्ट
• मेडिकल फ्लेबोटोमिस्ट
• क्लीनिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजिस्ट
• मेडिकल कंसलटेंट
• मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजिस्ट
• मेडिकल कोडिंग
• लेबोरेटरी मैनेजर

MLT ke Baad Salary

एमएलटी के बाद मिलने वाले सैलरी पैकेज कई सारे चिंजो के ऊपर निर्भर करती है जैसे कि; कौन सा कोर्स किये है, नौकरी करने का क्षेत्र कौन सा है, कौन सी पद में नौकरी करेंगे, काम की एक्सपीरियंस है कि नहीं, इत्यादि।

फिरभी यदि एमएलटी के बाद मिलने वाले औसतन सैलरी की बात करे तो औसतन ₹1,80,000 से ₹4,20,000 प्रति वर्ष की सैलरी पैकेज होता है। जैसे जैसे काम के एक्सपीरियंस बढ़ते है सैलरी में भी इन्क्रीमेंट होना सुरु हो जाते है।

निष्कर्ष: आज की लेख में हमने MLT Course Details के बारे में बारीकियों से चर्चा की है, जैसे कि; MLT क्या है, MLT के लिए क्वालिफिकेशन क्या चाहिए, कोर्स फीस कितना है, कौन सा नौकरी मिलेगा, सैलरी कितनी होगी, इत्यादि।

आप इनमे से कौन सा MLT Course करेंगे कमेंट करके बताये और अगर कोर्स से जुड़े कोई भी दिक्कत आ रही है तो कमेंट में बताना न भूले, हम आपके सहायता करने के लिए तैयार है।

ऐसे ही कोर्स और करियर से जुड़े जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग FutureBanaye.com को सब्सक्राइब करे एबं हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े जहां आपको नई नई करियर ऑप्शन के बारे में पता चलेगा।

दूसरे पैरामेडिकल कोर्स:

दोस्तों के साथ शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.