Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

IPS kaise Bane: एंट्रेंस एग्जाम से आईपीएस बनने तक का सफर

क्या आप IPS Officer बनना चाहते है? परंतु नहीं जानते कि IPS kaise Bane? तो आज की इस आर्टिकल खासकर आपके लिए लिख रहा हूं ताकि आपको पता चले आईपीएस ऑफिसर कैसे बने, आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए, आईपीएस बनने के लिए कौन सा एग्जाम देना है, आईपीएस ऑफिसर के सैलरी कितनी होती है, इत्यादि।

सुनने में “आईपीएस ऑफिसर” बहुत सुंदर लगती है परंतु एक आईपीएस ऑफिसर बनने के पीछे कितनी मेहनत और कड़ी तपस्या की जरूरतें है यह उन लोगों को भलीभांति मालूम है जो आज आईपीएस बनकर देश की सेवा में नियोजित है।

लेकिन हां, यह उतना भी नामुमकिन नहीं है जितना आप सोच रहे है, मेरा कहने का मतलब, आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए जो UPSC Civil Services Exam क्लियर करना होता वह उतना कठिन भी नहीं है और आसान भी नहीं। इसे पास करने के लिए पूरे जुनून से कड़ी मेहनत करना होता तब जाकर आईपीएस बनने की सपना साकार होगी।

IPS बनने के लिए हर साल लाखों उम्मीदवार UPSC एग्जाम में भाग लेते है परंतु उनमें से सिर्फ टॉप 150 – 200 अभ्यर्थियों को ही चुना जाता है आईपीएस बनने के लिए। इसके एग्जाम मुख्यतः तीन चरण में लिया जाता है, प्रिलिमिनरी, मेंस और इंटरव्यू, उसके बाद उत्तीर्ण उम्मीदवारों को ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है। इन सभी एग्जाम के बारे में थोड़ी ही देर में चर्चा करने वाले है।

IPS kaise Bane

बहुत से अभ्यर्थी सोचते है कि 12वीं के बाद भी आईपीएस बन सकते है या पॉलीटेक्निक कोर्स के बाद भी आईपीएस बन सकते है, लेकिन ऐसा संभव नहीं है इसके लिए उम्मीदवारों को कम से कम ग्रेजुएशन करना होता किसी भी सब्जेक्ट से। उसके बाद यूपीएससी एग्जाम के लिए आवेदन किया जाता है। जिसके नोटिस दिसंबर महीने के आसपास निकली जाती है।

आईपीएस ऑफिसर बनने हेतु उम्मीदवारों को सबसे पहले ग्रेजुएशन के कोर्स करना होता किसी भी सब्जेक्ट लेकर, यूजीसी मान्यता प्राप्त कॉलेज/यूनिवर्सिटीज से। ध्यान रहे, यूपीएससी एग्जाम केवल भारत के नागरिक ही दे सकता है जिनके आयु कम से कम 21 की हो। इसके अतिरिक्त और भी कुछ आवश्यकतायें है जैसे: शैक्षणिक योग्यता, आयु, कदकाठी, छाती, आंखों का दृष्टि क्षमता, राष्ट्रीयता, इत्यादि।

IPS के लिए योग्यता

आईपीएस बनने के लिए उम्मीदवारों को यूपीएससी का सिविल सर्विस एग्जाम उत्तीर्ण होना होता। इस एग्जाम में बैठने के लिए उम्मीदवारों के कुछ योग्यता होनी चाहिए।

1. राष्ट्रीयता:

• उम्मीदवारों को आईपीएस बनने के लिए भारत की नागरिक होनी चाहिए, इसके अलावा नेपाल और भूटान की नागरिक होनी चाहिए।

• किसी भी तिब्बती शरणार्थी जो 1 जनवरी 1962 से पहले भारत में स्थायी रूप से बस गया हो वह भी इस पद के लिए आवेदन कर सकते है।

• भारत में स्थायी रूप से बसने के इरादे से पाकिस्तान, म्यांमार, श्रीलंका, केन्या, युगांडा, तंजानिया, जाम्बिया, मलावी, ज़ैरे, इथियोपिया या वियतनाम से माइग्रेट होकर आया है वह भी इसके लिए एलिजिबल है।

2. शैक्षणिक योग्यता: उम्मीदवारों को कम से कम ग्रेजुएट होना चाहिए; ग्रेजुएशन में किसी भी विषय लेकर पढ़ाई कर सकते है, इंसमे कोई रोक टोक नहीं है।

यूपीएससी एग्जाम में बैठने के लिए ग्रेजुएशन में प्राप्त नंबर की कोई लिमिट भी नहीं है, यानी अगर कोई 35 प्रतिशत नंबर से ग्रेजुएशन पास करते है तो वह भी आईपीएस पद के लिए योग्य है।

3. आयु (Age): आयु की बात करे तो, आईपीएस बनने के लिए जनरल वर्ग के उम्मीदवारों को कम से कम 21 साल से 32 साल की होना होगा, ओबीसी वर्ग के लिए 3 साल की छूट मिलती है यानी 21 साल से 35 साल तक ऐज लिमिट है।

वही अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजातियों के लिए 5 साल की छूट मिलती है यानी 21 साल से 37 साल तक के उम्मीदवार इस पद के एग्जाम के लिए उपयुक्त है। इसके अलावा Pwd उम्मीदवारों के लिए 37 साल तक आयु की लिमिट है।

4. कद काठी (Height): आईपीएस बनने के लिए पुरूष उम्मीदवारों को न्यूनतम 165 cm का होना होगा, महिला उम्मीदवारों को कम से कम 150 cm का और पहाड़ी उम्मीदवारों के लिए 5 cm का छूट दिया जाता है।

5. आंखों का दृष्टि: आईपीएस बनने के लिए स्वस्थ व्यक्ति का आंखों का दृष्टि होनी चाहिए 6/6 ya 6/9 अन्यथा कमजोर व्यक्ति के लिए 6/12 या  या 6/9 होनी चाहिए।

6. छाती (Chest): पुरुषों का छाती 84 cm का होना चाहिए और महिलाओं के लिए 79 cm

7. प्रयास (Attempts): जनरल वर्ग के उम्मीदवारों को कुल 6 बार एग्जाम में बैठने का मौका दिया जाता है यानी 21 से 32 साल में कुल 6 बार एग्जाम में बैठ सकता है, ओबीसी वर्ग के छात्रों के लिए 9 बार वही अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजातियों के लिए कोई एग्जाम में बैठने का कोई लिमिट नहीं हैं।

यानी ओबीसी वर्ग के उम्मीदवार 21 से 35 साल के बीच कुल 9 बार एग्जाम में बैठ सकते है, वही अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजातियों के लिए 21 साल से 37 साल के बीच एग्जाम में बैठने के लिए कोई लिमिट नहीं है यानी कितनी भी बार चाहे एग्जाम में हिस्सा ले सकते है।

IPS Kaise Bane

अगर आप सच मे आईपीएस बनना चाहते है तो आप मे इंटेलीजेंसी के साथ साथ धैर्य और कड़ी मेहनत करने का जज्बा होनी चाहिए तभी यूपीएससी एग्जाम पास कर पाएंगे। आईपीएस कैसे बने इसके बारे में कुछ सिंपल स्टेप्स बताये है जिसे फॉलो करके आप आईपीएस बन सकते है।

IPS kaise bane, ips ki eligibility, ips ki salary

1. अपना लक्ष्य निर्धारित करें: किसी भी लक्ष्य तक पहुंचने से पहले उस लक्ष्य तक पहुचने का रास्ता सही से पता होना चाहिए। और अगर अपने सचमे लक्ष्य तय कर ली है उसके लिए जी जान से मेहनत करनी चाहिए।

और यह तो आईपीएस की पद है जिसे प्राप्त करने के लिए लाखों उम्मीदवार तरसते है तभी तो इसकी तैयारी के लिए अपनी पूरी जान झोंक देती है। इसलिए यदि आप आईपीएस बनना चाहते तो पहले से इसे अपना मंजिल बना लीजिए और इसके दिशा में चल पड़े।

2. अच्छे अंकों से 12 वी पूरा करे: आईपीएस बनने का सबसे पहला चरण है अपना इंटरमीडिएट पूरा करना। बहुत से अभ्यर्थियों को लगता है आईपीएस बनने के लिए या तो साइंस, आर्ट्स या कॉमर्स में से कोई भी एक शाखा होनी चाहिए।

लेकिन ऐसा नहीं है, अगर कोई स्टूडेंट्स अपना 12 वी साइंस या आर्ट्स या फिर कॉमर्स में से किसी भी एक शाखा से की हो तो वह आईपीएस बनने का एक धाप आगे निकाल गए है।

3. ग्रेजुएशन पूरा करे: 12 वी पूरा होने के बाद ग्रेजुएशन करना है क्योंकि, आईपीएस बनने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता ग्रेजुएट होनी चाहिए। इसलिए आप अपना मन पसंद किसी भी सब्जेक्ट लेकर ग्रेजुएशन पूरा कर लीजिए।

ध्यान रहे, जिन स्टूडेंट्स ग्रेजुएशन का फाइनल वर्ष के है वह भी इसके एग्जाम के लिए योग्य है, बस आईपीएस पद में नियुक्त होने से पहले आपके ग्रेजुएशन पूरा होना चाहिए। एमबीबीएस की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स यदि अपनी फाइनल वर्ष कंपलीट कर ली है परंतु इंटर्नशिप बाकी है तो वह भी इसके लिए योग्य है।

4. यूपीएससी का आवेदनपत्र भरना: आईपीएस बनने हेतु सिविल सर्विस एग्जाम देना होगा जो यूपीएससी द्वारा आयोजित किया जाता है। इसके एप्लीकेशन फॉर्म हर साल फरवरी और मार्च महीने के आसपास निकालती है।

फॉर्म भरने के लिए upsc.gov.in या upsconline.nic.in के जाना होगा वहां Apply Online का ऑप्शन है उस पर क्लिक करके अप्लाई करना होगा, अप्लाई के दौरान एप्लीकेशन फीस के तौर पर ₹100/- जमा करना है सिर्फ जनरल वर्ग के पुरुषों के लिए, इसके अलावा किसी भी वर्ग के उम्मीदवारों के लिए एग्जाम फीस की छूट मिलती है।

5. यूपीएससी एग्जाम की तैयारी: आईपीएस बनने के लिए यूपीएससी सिविल सर्विस एग्जाम की तैयारी पहले से करनी होगी क्योंकि हर साल लगभग 9,00,000 से 11,00,000 उम्मीदवार इसके लिए अप्लाई करते है और प्रीलिम्स में औसतन लगभग 5,50,000 उम्मीदवार हिस्सा लेते है, और इनमें से सिर्फ 150 से 200 जन भाग्यशाली को ही यह पद मिलती है।

यह आंकड़े से अंदाजा हो रहा होगा कि यह एग्जाम कितना कठिन होता। इंडिया में जितने भी कॉम्पिटेटिव एग्जाम होता है उनमें से सबसे कठिन में से सिविल सर्विस एग्जाम भी एक है। इसलिए एग्जाम की तैयारी सोची समझी योजना बनाकर करनी चाहिए तभी मंजिल तक पहुंच पाएंगे।

इसका नियुक्ति तीन चरण में किया जाता है, प्रिलिमिनरी, मैंस और इंटरव्यू। सभी धाप के लिए सिलेबस निर्धारित है जिसके बारे में थोड़ी ही देर में चर्चा करेंगे। सिविल सर्विस की तैयारी करने के लिए आप किसी अच्छी कोचिंग संस्थान के साथ जुड़ सकते है जिनके पहले से तैयारी करवाने की अनुभव हो।

इसके अलावा अपना खुद का शेड्यूल बना लिनी चाहिए और उसी के मुताबिक रोजाना तैयार करनी चाहिए, इसके अतिरिक्त इंटरव्यू के दौरान पर्सनालिटी टेस्ट भी जाति है इसलिए खुद पर खास ध्यान दे और अपने स्वास्थ्य को ठीक रखे।

6. सिविल सर्विस प्रीलिमिनरी एग्जाम का तैयार करे: यूपीएससी के सिविल सर्विस प्रिलिमिनरी एग्जाम हर साल जून महीने में आयोजित किया जाता, और इसकी रिजल्ट अगस्त महीने में घोषणा कर दिया जाता है।

प्रीलिमिनरी एग्जाम में कुल 2 पेपर होते है, हर पेपर में 200-200 अंक है और इसके लिए 2-2 घंटे समय मिलते है; यानी पेपर-i में 200 और पेपर-ii में भी 200 अंक के सवाल पूछे जाते है, हर पेपर के लिए 2 घंटे समय दिया जाता है। इंसमे सारे के सारे सवाल ऑब्जेक्टिव टाइप होते है जिसमे चार ऑप्शन दिया रहता।

प्रीलिमिनरी एग्जाम पेपर -1 सिलेबस: इंसमे उम्मीदवारों के ज्ञान चेक किया जाता है करंट इवेंट, हिस्ट्री ऑफ इंडिया एंड इंडियन नेशनल मूवमेंट, इंडियन एंड वर्ल्ड जियोग्राफी, इकोनॉमी एंड सोशल डेवलपमेंट, इंडियन पोलिटी एंड पंचायत राज सिस्टम एंड गवर्नेन्स, बायोडायवर्सिटी, एन्विरोमेंटल इकोलॉजी, क्लाइमेट चेंज एंड जनरल साइंस, आर्ट एंड कल्चर, इत्यादि के ऊपर।

प्रिलिमिनरी एग्जाम पेपर -2 सिलेबस: इंसमे उम्मीदवारों के स्किल्स इन कॉम्प्रिहेंशन, इंटरपर्सनल स्किल्स, लॉजिकल रीजनिंग, कम्युनिकेशन, एनालिटिकल एबिलिटी, डिसिशन मेकिंग, प्रॉब्लम सॉल्विंग, डाटा इंटरप्रिटेशन, बेसिक नुमेरसी, इंग्लिश लैंग्वेज कॉम्प्रिहेंशन स्किल्स एंड मेन्टल एबिलिटी की टेस्ट की जाती है।

यह क्वालीफाइंग इन नेचर टाइप का पेपर है इंसमे प्राप्त नंबर मेरिट लिस्ट बनाने में काउंट नहीं होता हालांकि, प्रीलिम्स परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए उम्मीदवार को इस पेपर में न्यूनतम 33 प्रतिशत अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।

7. सिविल सर्विस मैंस एग्जाम: प्रीलिमिनरी एग्जाम उत्तीर्ण होने के बाद मैंस एग्जाम के लिए उम्मीदवारों को बुलाया जाता। इस चरण में लिखित परीक्षा ली जाती है, जिसमे 9 पेपर है, हर पेपर को लिखने के लिए 3 घंटे समय मिलता है।

इंसमे प्रश्न के सीमा एक अंक से साठ अंक तक होती है और इसके जवाब 20 शब्दों से 600 शब्दों के बीच रहती है।

मैंस पेपर -A सिलेबस: उम्मीदवार किसी भी एक इंडियन लैंग्वेज सेक्लेक्ट कर सकते है (भारतीय संविधान के शेड्यूल 8 में जितने भी भाषाएं है उंसमे से कोई भी एक भाषा चुनना होगा) इस पेपर में कुल 300 अंक है।

मैंस पेपर -B सिलेबस: पेपर-B में इंग्लिश विषय के बारे परीक्षा देना होता, इंसमे कुल 300 अंक के सवाल पूछे जाते है।

मैंस पेपर -1 सिलेबस: इस पेपर में 250 अंकों का निबंध लिखना होता।

मैंस पेपर -2 सिलेबस: इंसमे जनरल स्टडीज -i के टेस्ट देना होता जसमे इंडियन हेरिटेज एंड कल्चर, हिस्ट्री एंड जियोग्राफी ऑफ द वर्ल्ड सोसायटी से संबंधित सवाल पूछे जाते है। इंसमे कुल 250 अंक होता है।

मैंस पेपर -3 सिलेबस: इस पेपर में जनरल स्टडीज -ii के बारे में परीक्षा देने होता, जिसमे मुख्यतः गवर्नेंस, कॉन्स्टिट्यूशन, पोलिटी, सोशल जस्टिस एंड इंटरनेशनल रिलेशन के सवाल होते। इस पेपर में कुल 250 अंक का सवाल पूछे जाते।

मैंस पेपर -4 सिलेबस:  जनरल स्टडीज -iii में टेक्नोलॉजी, इकॉनमी डेवलपमेंट, बायो-डाइवर्सिटी, एनवायरनमेंट, सिक्युरिटी एंड डिजास्टर मैनेजमेंट, की टेस्ट देना होता, इस पेपर में 250 नंबर होते है।

मैंस पेपर -5 सिलेबस: जनरल स्टडीज -iv, इंसमे एथिक्स, इंटेग्रिटी एंड एप्टीट्यूड की एग्जाम होता जो कुल 250 अंकों की है।

मैंस पेपर -6 & 7 सिलेबस: पेपर 6 & 7 के से कोई भी एक पेपर उम्मीदवार द्वारा चुना जाना है, हर पेपर में 250 अंक होते है।

8. पर्सनालिटी टेस्ट (इंटरव्यू): प्रीलिमिनरी और मैंस एग्जाम उत्तीर्ण होने के बाद वेकैंसी के 11 या 12 गुना उम्मीदवारों को बुलाया जाता है पर्सनालिटी टेस्ट के लिए जो लगभग 40 से 45 मिनट तक चलता है।

इंसमे एक इंटरव्यू पैनल बैठता है जो उम्मीदवारों को तरह तरह के सवाल वर्ल्ड हिस्ट्री, एडमिनिस्ट्रेशन, इकोनॉमिक्स, आदि के सवाल पूछे जाते है जो ट्रीकि और डिस्क्रिप्टिव होते है।

इंसमे उम्मीदवारों का कम्युनिकेशन स्किल्स, परिस्थितियों को सही से निपटने का क्षमता, बुद्धिमत्ता आदि का जायजा किया जाता है। इंटरव्यू में कुल 275 अंक होते है।

9. आईपीएस बनने के लिए ट्रेनिंग: प्रीलिमिनरी, मैंस और पर्सनालिटी टेस्ट के बाद उम्मीदवारों को ट्रेनिंग एकेडमी में ट्रेनिंग प्रदान की जाती है। आईपीएस बनने की ट्रेनिंग को मुख्यतः चार पार्ट में बंटा गया है।

फाउंडेशन कोर्स: यह 3 महीने की कोर्स है जो लाल बहादुर शास्त्री नेशनल एकेडमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन (LBSNAA) मसूरी, उत्तराखंड में किया जाता है।

फेज -i ट्रेनिंग: यह बेसिक कोर्स है इस चरण की ट्रेनिंग पूरा करने में 11 महीने लगते है। फेज – 1 की ट्रेनिंग सरदार वल्लभ भाई पटेल नेशनल पुलिस एकेडमी (SVPNPA), हैदराबाद में किया जाता है।

डिस्ट्रिक्ट प्रैक्टिकल ट्रेनिंग: इसकी समयावधि है 6 महीने जो संबंधित संवर्ग में होता है।

फेज – ii ट्रेनिंग: फेज टू की ट्रेनिंग सरदार वल्लभ भाई पटेल नेशनल पुलिस एकेडमी (SVPNPA), हैदराबाद में होता है जिसकी समयावधि है 1 महीने।

IPS ki Salary

यदि आप सोच रहे है कि IPS ki salary kitni hoti hai है तो आपको बता दे, आईपीएस की सैलरी सुरुवात में लगभग 56,000 होती है हालांकि यह समय और रैंक के हिसाब से बढ़ती है।

रैंक के हिसाब से आईपीएस की सैलरी

• डेप्युटी सुपरिंटेंडेंट ऑफ पुलिस (DSP) की सैलरी है हर महीने ₹56,100/-

• एडिशनल सुपरिंटेंडेंट ऑफ पुलिस (ASP) की सैलरी है ₹67,700/- प्रति माह।

• सुपरिंटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP) की सैलरी है हर महीने ₹78,800/-

• सीनियर सुपरिंटेंडेंट ऑफ पुलिस (SSP) की सैलरी है ₹1,18,000/- प्रति माह।

• डेप्युटी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DIGP) की सैलरी है ₹1,31,000/- हर महीने।

• इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (IGP) की सैलरी है ₹1,44,200/- हर महीने।

• एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (ADGP) की सैलरी है ₹2,05,400/- प्रति माह।

• डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DGP) की सैलरी है ₹2,25,000/- हर महीने।

निष्कर्ष: आज की इस पोस्ट में IPS kaise bane इसके बारे में बारीकियों से बताया गया है जैसे कि, आईपीएस के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए, आईपीएस की सिलेबस, आईपीएस की सैलरी कितनी होती है, इत्यादि।

आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट करके बताये और अगर हमारे लिए कोई सुझाव है तो कमेंट सेक्शन में बात सकते है। यदि इस आर्टिकल से आपको कुछ नई चीज जानने को मिला है तो अपने दोस्तों के साथ भी इस आर्टिकल को शेयर कीजिये ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चले।

यह पढ़े:

दोस्तों के साथ शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.