Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

Graduation Kya Hota Hai बारीकी से समझे स्कोप, सैलरी, जॉब्स इत्यादि

पढ़ाई के दौरान हर स्टूडेंट्स का सपना होता कि वो आगे जाकर ग्रेजुएशन पूरा करे यानी ग्रेजुएट बन सके।

लेकिन उनके पास ग्रेजुएशन को लेकर सही जानकारी न होने के कारण वो सही मार्ग में ग्रेजुएशन के कोर्स नहीं कर पाते।

परंतु आप को ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं, आज हम ग्रेजुएशन के बारे में विस्तार से डिस्कस करेंगे।

इसलिए, यदि आपको जानना है कि graduation kya hota hai, ग्रेजुएशन के कोर्स लिस्ट क्या है, ग्रेजुएशन के बाद क्या करे, सैलरी कितना मिलेगा, इत्यादि,

इसलिए बने रहिए हमारे इस आर्टिकल के साथ तभी आप को graduation in hindi के बारे में पता चलेगा।

इसे पढ़े: NEET क्या है किसे देना होगा 12वी के बाद

Graduation kya hota hai, graduation in hindi
graduation in hindi

तो आइए सुरु करते है आज की आर्टिकल और ग्रेजुएशन के बारे में बारीकी से समझाते है।

Graduation Kya Hota Hai

ग्रेजुएशन का मतलब है स्नातक। इसे बैचलर डिग्री के नाम से भी जाने जाते है। जिसे 12वी के बाद किया जाता है। ग्रेजुएशन में तीन साल से लेकर पांच साल का कोर्स उपलब्ध है।

जिस कोर्स का अवधि तीन साल है उंसमे छह सेमेस्टर है और जिसका अवधि पांच साल है उंसमे दस सेमेस्टर है। यानी हर साल में दो सेमेस्टर देने होंगे।

यदि आप 12वी के बाद ग्रेजुएशन करना चाहते है तो आप को बता दूं, बीए, बीएससी, बीकॉम, बीटेक, आदि के अंदर सैकड़ों कोर्स आते जिसमे आप ग्रेजुएट हो सकते।

इसे पढ़े:

BA क्या है और कैसे करे

BA Subject list

BPED Course Details

Bsc kya Hai, subject list, fees, exam, scope, salary

ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद यानी ग्रेजुएट होने के पश्चात आप के लिए पूरे देश मे काम करने का सैकड़ों द्वार खुल जाते है।

Graduation के लिए योग्यताएं

ग्रेजुएशन के हर कोर्स के लिए अलग अलग मानदंड तय किया गया है। लेकिन सारे कोर्स में जो कॉमन एलिजिबिलिटी है वो है 12वी पास।

मतलब आप ग्रेजुएशन के जो भी कोर्स करेंगे जैसे, बीए, बीएससी, बीकॉम, एमबीबीएस बीटेक इत्यादि उसके लिए सबसे पहले आप को 12वी पास करना होगा।

और 12वी में न्यूनतम 50 प्रतिशत नंबर की मांग की जाती है वो भी किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से।

इसके साथ आयु की बात करे तो किसी किसी कोर्स के लिए 18 साल की आयु होना जरूरी है।

लेकिन ध्यान रहे, हर कोर्स के लिए भिन्न-भिन्न एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया है। इसे एक उदाहरण से समझे,

मान लीजिए आप बीटेक करना चाहते तो 12वी में आप को साइंस सब्जेक्ट्स जैसे, फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथेमेटिक्स लेकर पढ़ाई करने होगा।

और अगर आप बीए करना चाहते है तो, आप जिस सब्जेक्ट लेकर बीए करने के बारे सोच रहे उस सब्जेक्ट लेकर 12वी पास करना होगा।

आशा करता हूं अब आप को समझ आ गया होगा कि ग्रेजुएशन क्या है और इसके एलिजिबिलिटी क्या है। अब आइए जानते है कि आप ग्रेजुएशन कैसे करेंगे।

इसे पढ़े: BMLT Course करके लैब टेक्नीशियन बने

Graduation Kaise Kare

आप को पहले ही पता चल गया होगा कि अलग अलग ग्रेजुएशन कोर्स के लिए अलग अलग क्राइटेरिया है।

लेकिन यदि हम बात करे कि ग्रेजुएशन कैसे करेंगे तो आपके जानकारी के लिए बता दूं, ग्रेजुएशन आप तीन तरीके से कर सकते है।

पहला है, सरकारी कॉलेज से, इस केस में आप को कुछ एंट्रेंस एग्जाम देने की आवश्यकता हो सकती है। और इसमें कोर्स फीस बहुत ही कम है।

दूसरा है, प्राइवेट कॉलेज से, ऐसे में आप को ज्यादातर डायरेक्ट एडमिशन मिल जाते है। लेकिन कुछ कॉलेज एबं कोर्स ऐसा है जिसमे एंट्रेंस एग्जाम देने होंगे।

और तीसरा तरीका है, ओपन यूनिवर्सिटी से, ऐसे सैकड़ों ग्रेजुएशन कोर्स है जिसे आप ओपन यूनिवर्सिटी जैसे, IGNOU, NIOS, इत्यादि से कर सकते है।

ओपन यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन करने के लिए आप को किसी एंट्रेंस एग्जाम देने की आवश्यकता नहीं। यहां आप को डायरेक्ट एडमिशन मिल जाएंगे।

Graduation Ke Fees

हर स्टूडेंट्स के मन ये सवाल जरूर होंगे कि ग्रेजुएशन तो करेंगे परंतु उसके फीस कितनी होगी?

तो आपके जानकारी के लिए बता दूं, ग्रेजुएशन के अंदर सैकड़ों कोर्स आते है और हर कोर्स के हिसाब से अलग अलग कोर्स फीस लिया जाता है।

इसे एक उदाहरण से समझे,मान लीजिए ग्रेजुएशन आप BCA करना चाहते है तो हर सेमेस्टर के लिए 10,000 से 80,000 तक फीस लगेगा।

और अगर आप बीएससी करना चाहते है किसी सब्जेक्ट से तो आप को बहुत ही कम फीस देना होगा।

ऐसे ही यदि आप किसी दूसरे कोर्स करना चाहते तो उसके हिसाब से फीस देना होगा। आप कौन सा कोर्स करना चाहेंगे कमेंट सेक्शन से बता सकते है।

इसे पढ़े: Diploma in Mass Communication Course details

Graduation Course List क्या है

हमने आप को पहले से बताये है कि ग्रेजुएशन के अंदर सैकड़ों स्नातक कोर्स आते है। जिस के बारे आगे जानने को मिलेगा।

• बैचलर ऑफ साइंस इन केमिस्ट्री

• बैचलर ऑफ साइंस इन फिजिक्स

• बैचलर ऑफ साइंस इन मैथेमेटिक्स

• बैचलर ऑफ साइंस इन बॉटनी

• बैचलर ऑफ साइंस इन जियोलॉजी

• बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी

• बैचलर डेंटल सर्जरी (यहां जाने BDS कोर्स की पूरी जानकारी)

• बैचलर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग

• बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (यहां क्लिक करके BCA क्या है और कैसे करे उसके बारे में जाने)

• बैचलर ऑफ एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग

• बैचलर ऑफ मैकेनिकल इंजीनियरिंग

बैचलर ऑफ साइंस इन नर्सिंग

• बैचलर ऑफ आर्ट्स कॉमर्स

• बैचलर ऑफ संस्कृत

• बैचलर ऑफ आर्ट्स इन जियोग्राफी

• बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन

• बैचलर ऑफ आर्ट्स इन सोशियोलॉजी

• बैचलर ऑफ इकोनॉमिक्स

इत्यादि इन सारे कोर्स के अलावा और भी सैकड़ों ग्रेजुएशन कोर्स उपलब्ध है जिसे आप किसी अच्छे कॉलेज से कर सकते है।

Graduation ke Baad kya kare

यदि आप सोच रहे है कि Graduation के बाद क्या करे तो आपके जानकारी के लिए बता दूं, जितने सारे नौकरियां उपलब्ध है उनमें से 95 प्रतिशत नौकरियां के लिए ग्रेजुएशन किया हुआ स्टूडेंट्स योग्य है।

इसलिए ग्रेजुएशन के डिग्री धारकों को सरकारी तथा निजी संस्थानों में नौकरी करने के लिए सुनहरे अवसर मिल जाते है।

यदि आप हायर स्टडी करना चाहते है तो वो भी कर सकते है। हायर स्टडी के लिए सबसे अच्छा है, आप जिस विषय लेकर ग्रेजुएशन किये है उंसमे पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स करना।

यदि आप किसी दूसरे सब्जेक्ट से पोस्टग्रेजुएट करना चाहते है तो MBA कर सकते है। इसके अलावा कई सारे कोर्स है जिसे आप ग्रेजुएशन के बाद कर सकते है।

इसे पढ़े: लाखो सैलरी वाले Software Engineer कैसे बने

और अगर नौकरी करना चाहते है तो आगे बताई गई क्षेत्र में आप को नौकरी मिलने की पूरी संभावनाएं है:

सरकारी क्षेत्र: बैंक, रेलवे, आईपीएस, आईएएस, इंडियन आर्मी, नेवी, एयरफोर्स, एविएशन क्षेत्र, एलआईसी, एसएससी, पीएसी, यूपीएससी, इत्यादि।

इसके अलावा आप बीएड, डीएलएड करके सरकारी तथा निजी स्कूल टीचर बगैरह बन सकते है। यदि आपके कॉलेज प्रोफेसर बनने की इच्छा है तो आप को NET/SLET एग्जाम में क्वालीफाई करने होगा।

पब्लिस सेक्टर कंपनी: जिन्हें पता नहीं के पब्लिक सेक्टर कंपनी क्या है, उनके जानकारी के लिए बता दूं, जिस कंपनी के मालिक है सरकार उसे ही पुब्लिक सेक्टर कंपनी कहते है।

आप चाहे तो आईओसी, ओएनजीसी, एनटीपीसी, कोल् इंडिया, पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया, भारत पेट्रोलियम, GAIL, SAIL, HPCL, भारत इलेक्ट्रॉनिक्स जैसे कंपनियों में नौकरी कर सकते है।

इन सारे कंपनियों के अलावा और कई सारे पब्लिक सेक्टर कंपनी है जहां आप जॉब कर सकते।

प्राइवेट कंपनी: निजी क्षेत में टाटा, जिंदल, essar ग्रुप, अमेज़न, गूगल, एप्पल, माइक्रोसॉफ्ट इत्यादि कंपनियों में काम कर सकते है।

इसे पढ़े: B ed kya hai और कैसे करे

Graduation के बाद सैलरी कितना मिलेगा

हर किसी के लिए सैलरी एक महत्वपूर्ण चीज़ है। यदि हम सैलरी की बात करे तो, सैलरी कई सारे चीज़ों के ऊपर निर्भर करती है।

सबसे पहले ये देखना होगा कि, कौन सा क्षेत्र में आप को काम मिला है, कौन सा पद है, और पहले से आप को कोई तजुर्बे है या नहीं।

यदि सरकारी क्षेत्र की बात करे तो, हर महीने लगभग 30,000 से 70,000 रु तक सैलरी मिलते है। वही अगर प्राइवेट कंपनी की बात करे तो हर महीने 20,000 से लेकर 1,00,000 रु तक सैलरी मिलते है।

Graduation करने के फायदे

ग्रेजुएशन करने के कई सारे फायदे है जो आप को आगे जानने को मिलेगा।

• ग्रेजुएशन पूरे के बाद अच्छे करियर मिलते है। लगभग सारे नौकरियों के लिए आप एलिजिबल हो जाएंगे।

• ग्रेजुएशन कंपलीट होने के पश्चात आप को ग्रेजुएट डिग्री मिल जाते है जिसे ऊपर बेस करके आप सैकड़ों नौकरियां के लिए आवदेन कर सकते है।

• ग्रेजुएशन के बाद आप को अधिक सैलरी मिलते है।

• ग्रेजुएशन में आप को किसी एक सब्जेक्ट में स्पेशलाइजेशन करने का मौका मिलता है।

• ग्रेजुएशन के कोर्स एक हायर एजुकेशनल डिग्री होने के नाते इसमें पाए जाते वाले नौकरियों में सिक्योरिटी एबं सैटिस्फैक्शन ज्यादा होती है।

• नौकरी प्राप्त करने के लिए पर्सनल डिवेलपमेंट एक महत्वपूर्ण भूमिका पालन करता है। और कोई माने या न माने ग्रेजुएशन करने से पर्सनल ग्रोथ बहुत अच्छे होती है।

Graduation से जुड़े सवाल जवाब

• ग्रेजुएशन कितने साल का होता है?

कोर्स का अवधि कितना होगा ये डिपेंड करेगा कोर्स के ऊपर। आमतौर पर ग्रेजुएशन तीन साल से लेकर पांच साल की होती है।

हर साल में दो सेमिस्टर है यानी जितने साल की कोर्स है उसके दो गुना सेमेस्टर है।

• ग्रेजुएशन करने में कितनी खर्च आती है?

जैसे कि आप को पता है ग्रेजुएशन के अंदर कई सारे कोर्स है। हर कोर्स के लिए अलग अलग फीस है। यदि आप किसी जनरल कोर्स करेंगे तो उंसमे कम खर्च आएगा।

और अगर किसी प्रोफेशनल कोर्स करेंगे तो उंसमे अधिक खर्च होगा। इसके अलावा कोर्स फीस कॉलेज के ऊपर निर्भर करती है। सरकारी कॉलेज फीस स्ट्रक्चर कम है वही प्राइवेट कॉलेज में बहुत ज्यादा।

• ग्रेजुएशन करने के लिए अच्छे कॉलेज कैसे चुने?

किसी भी कोर्स क्यों न हो हमेशा अच्छे कॉलेज से ही करना चाहिए। क्योंकि उसके कई सारे फायदे है। ये आपके आने वाले भविष्य को और शानदार बनाने में मदत करते है।

इसलिए, भले ही कोर्स फीस थोड़ा ज्यादा लगे लेकिन हमेशा अच्छे कॉलेज/यूनिवर्सिटी से ही ग्रेजुएशन करना चाहिए।

अच्छे कॉलेज चुनने के लिए, उस कॉलेज से पास हो चुके स्टूडेंट्स से बात कर सकते है। इसके अलावा सबसे आसान तरीका है, उस कॉलेज के रिव्यु एबं रेटिंग ऑनलाइन चेक करना। इससे आप को थोड़ा अंदाज़ा हो जाएगा।

निष्कर्ष: यह रहा आज की आर्टिकल graduation in hindi. यहां आप को जानने को मिला है कि graduation क्या होता है, ग्रेजुएशन के बाद कौन सा सरकारी नौकरी तथा प्राइवेट नौकरियां मिलेगा, Graduation के बाद क्या करे, सैलरी कितनी मिलेगी, इत्यादि।

आशा करता हूं, आप को ग्रेजुएशन से जुड़े ये आर्टिकल पसंद आये होंगे। यदि कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट सेक्शन में विस्तार से बताये। सवाल का जवाब जरूर दिया जाएगा।

ऐसे ही शानदार जानकारी पाने के लिए हमारे FutureBanaye ब्लॉग को सब्सक्राइब कीजिए।

धन्यवाद!

यह पढ़े:

MSW Course Details

GNM Nurse कैसे बने

दोस्तों के साथ शेयर करे

Leave a Reply