Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

Engineer kaise Bane: साइंस/आर्ट्स वाले कोई भी बन सकता है इंजीनियर

बचपन से बहुत से स्टूडेंट्स का सपना होता है कि वह आगे चलकर डॉक्टर या इंजीनियर बने। इसलिए वह स्कूल से ही तैयारी सुरु कर देते है और 12 वी में साइंस स्ट्रीम का चुनाव करते है।

परंतु ज्यादातर स्टूडेंट्स के पास यह जानकारी नहीं होती कि साइंस स्ट्रीम के सिवा भी इंजीनियरिंग की पढ़ाई की जा सकती है और इंजीनियर बना जा सकता है।

अगर आपको जानना है कि साइंस और आर्ट्स वाले स्टूडेंट्स Engineer kaise Bane, इंजीनियर बनने की योग्यता क्या है, इंजीनियर बनने के लिए एंट्रेंस एग्जाम, इंजीनियर बनने के लिए कितना पैसा लगेगा, कौन सी नौकरी मिलेगी, सैलरी कितना मिलेगा, इत्यादि तो उस आर्टिकल को पूरा पढ़े।

यहां आपको बारीकियों से पता चल जाएगा कि इंजीनियर कैसे बने, और इंजीनियर बनने के लिए कौन सा कोर्स करना होता, ऐज लिमिट कितना है, इत्यादि।

अगर आप आखरी तक इस पोस्ट को पढ़ लेते है तो मैं पूरे विश्वास से कह सकता हूं कि आप को दूरी बार इंटरनेट में सर्च करने की जरूरत नहीं पड़ेगी की इंजीनियर कितने प्रकार के होते हैं और इंजीनियर कैसे बनते है।

Engineer kaise Bane

इंजीनियर बनने के लिए सर्टिफिकेट, डिप्लोमा, बीटेक और एमटेक आदि कोर्स उपलब्ध है जिसे 10वी या 12वी के बाद पूरा करके इंजीनियर बना जा सकता है। लेकिन इंजीनियर बनने के लिए कुछ पात्रता होने की आवश्यकताएं है जिसके बारे में आगे बताया गया है।

Engineer kaise bane, इंजीनियरिंग की शाखाएं, engineering course fees, इंजीनियरिंग की सैलरी

सर्टिफिकेट कोर्स करके इंजीनियर बने: बहुत से स्टूडेंट्स है जिनके पारिवारिक आर्थिक स्थिति सही नहीं होते या फिर किसी कारण से उन्हें जल्दी नौकरी की तलाश करना होता।

अगर ऐसे स्थिति से आप गुजर रहे है तो आपको इंजीनियरिंग की सर्टिफिकेट कोर्स करनी चाहिए ताकि जल्द से जल्द आपको सरकारी तथा निजी क्षेत्र में नौकरी मिले।

इंजीनियरिंग की सर्टिफिकेट कोर्स करने के लिए उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त आईटीआई कॉलेज से ITI Course करना होगा, यह दो साल की कोर्स है। जिसमे चार सेमेस्टर देने होते, हर सेमेस्टर के बीच छह माह का अंतर होता।

इंस कोर्स में लड़के हो लड़की कोई भी एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से या फिर डायरेक्ट एडमिशन के माध्यम से दाखिला ले सकते है। दाखिला लेने के लिए न्यूनतम 10 वी पास होनी चाहिए कुछ ट्रेड में 8 वी पास करने वाले स्टूडेंट्स भी दाखिला ले सकते है।

आईटीआई कोर्स से जुड़े जानकारी जैसे; कोर्स फीस, सिलेबस, ट्रेड लिस्ट, नौकरी, सैलरी, इत्यादि के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करके पढ़े ITI Course Details

डिप्लोमा कोर्स करके इंजीनियर बने: अगर आप जूनियर इंजीनियर बनना चाहते है तो आप इंजीनियरिंग की डिप्लोमा कोर्स कर सकते है। इसे 10 वी या 12 वी के बाद किया जाता है। अगर आप किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10 वी या 12 वी पास किये है तो आपको इस कोर्स के लिए योग्य माना जाता।

डिप्लोमा इंजीनियर बनने के लिए पॉलीटेक्निक की पढ़ाई करनी होगी जिसके अंतर्गत बहुत से शाखायें है, पॉलीटेक्निक तीन साल की कोर्स है जिसमे छह सेमेस्टर देने होते, प्रत्येक सेमेस्टर के बीच छह माह का अंतराल होता है।

इंजीनियरिंग की डिप्लोमा कोर्स में यानी पॉलीटेक्निक कोर्स में दाखिला लेने के लिए राज्य स्तरीय पर बहुत से एंट्रेंस एग्जाम होता है जिसे उत्तीर्ण होकर कोर्स में दाखिला ले सकते है। इसके अतिरिक्त कोर्स में दाखिला लेने के लिए डायरेक्ट एडमिशन भी लिया जाता है।

डायरेक्ट एडमिशन लेने के लिए अभ्यर्थियों को किसी प्रकार की कोई एग्जाम देने की आवश्यकता नहीं होती, अपने शैक्षणिक योग्यता की सारी दस्तावेज और पहचान पत्र लेकर कॉलेज के साथ संपर्क करके एडमिशन फीस देने के बाद कोर्स में दाखिला लेना होता।

और जिन कॉलेज में एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से एडमिशन लिया जाता है वैसे मामले में सबसे पहले एंट्रेंस एग्जाम के लिए फॉर्म भरना होता जो माध्यमिक परीक्षा के बाद निकाली जाती है।

इसके बाद एंट्रेंस एग्जाम में हिस्सा लेना होता और उंसमे प्राप्त नंबर के आधार पर ही मेरिट लिस्ट तैयार किया जाता। मेरिट लिस्ट बनने के बाद, काउंसलिंग में हिस्सा लेकर एडमिशन लेना होता।

अगर एंट्रेंस एग्जाम में अच्छे रैंक मिलते है तो सरकारी कॉलेज में दाखिला मिल जाता जहां कोर्स फीस बहुत कम होती है लगभग न के बराबर अन्यथा निजी कॉलेज में कोर्स फीस बहुत ज्यादा देना होता।

अगर डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग करना है तो पॉलीटेक्निक कोर्स के एडमिशन प्रॉसेस, फीस, सिलेबस, सब्जेक्ट्स, बेस्ट कॉलेज, स्कोप, नौकरी, इत्यादि के बारे में यहां से क्लिक करके पढ़े, Polytechnic Course Details

बीटेक करके इंजीनियर बने: बीटेक की पूरा नाम है बैचलर टेक्नोलॉजी, यह चार साल की ग्रेजुएशन कोर्स है। इंसमे हर छह माह के अंतराल में एक सेमेस्टर देने होते यानी पूरे कोर्स में आठ सेमेस्टर देना होता।

बीटेक की कोर्स में एडमिशन लेने के लिए अभ्यर्थियों को फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथेमेटिक्स लेकर 12 वी पास करना होता किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से या उसके समकक्ष कोई भी कोर्स करना होता। 12वी में न्यूनतम 45 प्रतिशत नंबर होना जरूरी है।

हालांकि ध्यान देने वाली यह बात है कि अगर कोई किसी अच्छी कॉलेज में दाखिला लेना चाहें तो 45 प्रतिशत नंबर से दाखिला मिलना असंभव होगा, इसलिए हमेशा कोशिश करे 12वी में 60 प्रतिशत नंबर लाने की। इसके अतिरिक्त बीटेक करने के लिए उम्मीदवारों का आयु कम से कम 17 साल होनी चाहिए।

बीटेक की कोर्स में मुख्यतः तीन तरीके से दाखिला मिलता है; एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से और डायरेक्ट एडमिशन और 12वी प्राप्त नंबर के आधार पर एडमिशन।

ज्यादातर सरकारी और बड़े बड़े प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना होता, उंसमे प्राप्त नंबर के आधार पर ही रैंक तैयार किया जाता और आगे काउंसिलिंग के माध्यम से एडमिशन मिलते।

इंडिया में बीटेक कोर्स करने के लिए अलग अलग कॉलेज/यूनिवर्सिटी अलग अलग नाम से एंट्रेंस एग्जाम लेते है, जिनमे कुछ नाम यहां दी गई है JEE Main, JEE Advance, WBJEE, BITSAT, MHT-CET, UPSEE, इत्यादि।

यहां क्लिक करके B tech Course के लिस्ट, कोर्स फीस, सिलेबस, बेस्ट कॉलेज, स्कोप, नौकरी, सैलरी, इत्यादि के बारे में बारीकियों से पता कर सकते है।

ध्यान रहे: अगर कोई अभ्यर्थी पॉलीटेक्निक करके डिप्लोमा इंजीनियर बनने के बाद बीटेक करना चाहे तो उन्हें बीटेक की दूसरे वर्ष में लेटरल एंट्री मिल जाएगा यानी बीटेक चार साल की नहीं तीन साल की करनी होगी।

बिई करके इंजीनियर बने: B.E का पूरा नाम है बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग यह भी बीटेक की तरह चार साल की कोर्स है जिसमे आठ सेमेस्टर होते है। इंसमे दाखिला लेने के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथेमेटिक्स लेकर 12वी पास करना होता किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से।

ध्यान रहे बिई में दाखिला लेने के लिए 12 वी में न्यूनतम 45 प्रतिशत नंबर प्राप्त करनी चाहिए और कम से कम 17 साल की आयु होनी चाहिए। बिई में बीटेक की तरह ही डायरेक्ट एडमिशन और एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से एडमिशन लिया जाता है।

एमटेक करके इंजीनियर बने: जो भी स्टूडेंट्स एमटेक करके इंजीनियर बनना चाहते है उन्हें सबसे पहले बीटेक करना होगा उसके बाद एमटेक की पढ़ाई कर सकते है। एमटेक पोस्ट ग्रेजुएशन लेवल की डिग्री है जिसके समयावधि दो साल है और इन दो सालों में कुल चार सेमेस्टर देना होता।

एमई करके इंजीनियर बने: जो भी स्टूडेंट्स ग्रेजुएशन में बिई (BE) करते है वह अगर मास्टर डिग्री करना चाहे तो उन्हें एमई करना होगा। यह दो साल की कोर्स है जिसे किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटीज से किया जा सकता है।

इंजीनियरिंग की शाखाएं (Engineering trade)

इंजीनियरिंग कोर्स के अंतर्गत बहुत से ट्रेड है जिनमे से कुछ ट्रेड के नाम हमने यहां बताये है:

• सिविल इंजीनियरिंग
मैकेनिकल इंजीनियरिंग
• केमिकल इंजीनियरिंग
कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग
• इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग
एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग
प्लास्टिक इंजीनियरिंग
• नुक्लेअर इंजीनियरिंग
इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग
ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग
सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग
• इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
• ऐरोस्पेस इंजीनियरिंग
• पेट्रोलियम इंजीनियरिंग
• टेक्सटाइल इंजीनियरिंग
• मरीन इंजीनियरिंग
• मैन्युफैक्चरिंग इंजीनियरिंग
बायोटेक्नोलॉजी
• एन्विरोमेंटल इंजीनियरिंग
• इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग
• सिरेमिक इंजीनियरिंग
• बायोमेडिकल इंजीनियरिंग
• मेटालर्जि इंजीनियरिंग
• पावर इंजीनियरिंग
• ट्रांसपोर्टेशन इंजीनियरिंग

Engineering Course Fees

अगर आप सोच रहे है कि इंजीनियर बनने के लिए कितना पैसा लगता है तो आपको बता दे, इंजीनियर बनने के लिए आप कौन सा कोर्स/डिग्री करते है, कहां से करते है (सरकारी/निजी कॉलेज) इत्यादि के ऊपर ही तय होता है कोर्स फीस कितना होगा।

यहां हमने आईटीआई, डिप्लोमा, बीटेक, बिई आदि कोर्स के लिए औसतन कोर्स फीस कितना लगेगा उसके बारे में बताये है।

आईटीआई इंजीनियरिंग कोर्स फीस: आईटीआई इंजीनियरिंग कोर्स की फीस सरकारी और प्राइवेट कॉलेज में भिन्न होता है; आमतौर पर सरकारी कॉलेज में न का बराबर फीस देना होता वही प्राइवेट कॉलेज में ₹50,000 से ₹80,000 के अंदर पूरे कोर्स कंपलीट हो जाते है।

पॉलीटेक्निक इंजीनियरिंग कोर्स फीस: आमतौर पर सरकारी पॉलीटेक्निक कॉलेज में ₹20,000 से ₹30,000 रुपये लग जाते है और प्राइवेट कॉलेज में ₹1,50,000 से ₹2,50,000 रुपये तक होता है।

बीटेक इंजीनियरिंग कोर्स फीस: बीटेक इंजीनियरिंग कोर्स की फीस अलग अलग कॉलेज में अलग होता है। यदि बीटेक कोर्स की औसतन फीस बताया जाए तो ₹2,50,000 से ₹8,00,000 तक होती है।

बिई इंजीनियरिंग कोर्स फीस: बिई इंजीनियरिंग कोर्स की फीस सामान्यतः सरकारी और प्राइवेट कॉलेज में भिन्न होता है, यदि औसतन कोर्स फीस देखा जाए तो ₹2.5 लाख से ₹6 लाख के आसपास होती है।

बेस्ट इंजीनियरिंग कॉलेज

इंडिया में बहुत से कॉलेज जहां से आप आईटीआई, पॉलिटेक्निक, बीटेक या बिई का डिग्री प्राप्त कर सकते है। यहां हमने कुछ कॉलेज के नाम बताये है जहां से इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर सकते है।

• आईआईटी मद्रास – इंडियन इंस्टीटूट ऑफ टेक्नोलॉजी, चेन्नई
• आईआईटी दिल्ली – इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली
• आईआईटी बॉम्बे – इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मुम्बई
• आईआईटी कानपुर – इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, उत्तर प्रदेश
• आईआईटी खड़गपुर – इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, पश्चिम बंगाल
• आईआईटी रुड़की – इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, उत्तराखंड
• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी – गुवाहाटी, असम
• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, हैदराबाद
• नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, तिरुचिरापल्ली, चेन्नई
• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, सूरतकल, कर्नाटक
• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, धनबाद
• जादवपुर यूनिवर्सिटी, कोलकाता, पश्चिम बंगाल

Engineering ke Baad kya Kare

इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद उम्मीदवारों के सामने बहुत से ऑप्शन खुल जाते है; कोई चाहे तो आगे की पढ़ाई जारी रख सकते है अन्यथा सरकारी तथा निजी क्षेत्र में भी काम कर सकते है। इसके अलावा इंजीनियरिंग की डिग्रीधारकों के मांग विदेशों में भी काफी अच्छे है कोई चाहे तो वहां अपना भविष्य संवार सकते है।

इंजीनियरिंग के बाद कि पढ़ाई:

• अगर कोई स्टूडेंट्स आईटीआई के बाद पढ़ाई करने चाहते तो उनके सबसे अच्छा कोर्स है पॉलीटेक्निक में दाखिला लेना; ऐसे स्टूडेंट्स को पॉलीटेक्निक की दूसरे वर्ष में एडमिशन दिया जाता है।

• पॉलीटेक्निक इंजीनियरिंग करने वाले स्टूडेंट्स को आगे की पढ़ाई के लिए बीटेक की कोर्स चुनना चाहिए। डिप्लोमा इंजीनियर के लिए बीटेक तीन साल की होता है क्योंकि पॉलीटेक्निक करने वालों को बीटेक की दूसरे वर्ष में लेटरल एंट्री मिलते है।

• जो भी अभ्यर्थी बीटेक के बाद हायर स्टडी के बारे में सोच रहे है, उनके लिए एमटेक सबसे अच्छा कोर्स है जो दो साल की पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है। इसके अलावा कोई चाहे तो MBA Course भी कर सकते है और बाद में पीएचडी, एमफिल बगैरह कर सकते है।

इंजीनियरिंग के बाद नौकरी: इंजीनियरिंग पूरे होने के बाद सरकारी, पुब्लिक तथा प्राइवेट संस्थाओं में नौकरी करने का अवसर मिलते है। इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान आप कौन सी ट्रेड लेकर पढ़ाई की है उसके आधार पर ही नौकरी मिलते है।

इंजीनियरिंग की डिग्री धारकों रेलवे, एविएशन क्षेत्र, एजुकेशन सेक्टर, रिसर्च, डीआरडीओ, ऑटोमोबाइल सेक्टर, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, एप्पल, ट्विटर, फेसबुक, अमेज़न, फ्लिपकार्ट, एग्रीकल्चर सेक्टर, टीसीएस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, इंडियन ऑयल, बी एच ई एल, अडानी ग्रुप, इत्यादि बड़े बड़े सेक्टर में नौकरी मिलते है।

इंजीनियर की सैलरी

इंजीनियर की सैलरी की रकम बहुत सारे चीजों को देखते हुए तय किया जाता है यदि कोई जूनियर इंजीनियर है तो उनको सीनियर इंजीनियर के तुलना में कम सैलरी मिलते है।

इसके अलावा, कौन सी इंस्टीट्यूट से इंजीनियरिंग की पढ़ाई किये है उसे भी महत्व दिया जाता, अगर कोई IIT, NIT आदि से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते है तो उनको लाखों में सैलरी मिलते है, इसके अतिरिक्त काम स्किल्स और अनुभव को भी इंजीनियरिंग की क्षेत्र ज्यादा महत्व दिया जाता है।

• आईटीआई करके इंजीनियर बनने वाला को प्राइवेट क्षेत्र में ₹10,000 से ₹18,000 के आसपास हर महीने सैलरी मिलते है, वही सरकारी और पब्लिक क्षेत्र में ₹20,000 से ₹25,000 के आसपास सैलरी होती है।

• पॉलीटेक्निक इंजीनियर को सुरुवात में हर महीने ₹13,000 से ₹20,000 सैलरी मिलता है वही अगर सरकारी क्षेत्र में नौकरी करते है तो उन्हें ₹20,000 से ₹30,000 सैलरी मिल जाता है।

• अगर को बीटेक की डिग्री धारक बड़े बड़े कंपनी में नौकरी करते है तो उन्हें लाखों में सैलरी मिलता। यदि औसतन सैलरी की बात करे तो सुरुवात में बीटेक करने वालों को ₹25,000 से ₹1,50,000 तक सैलरी मिलते है।

ध्यान रहे सभी नौकरी की तरह इंसमे भी सुरूवाती दौर में सैलरी पैकेज थोड़ा कम होता है। परंतु स्किल्स और अनुभव बढ़ने के साथ साथ सैलरी में इन्क्रीमेंट होना सुरु हो जाते है।

निष्कर्ष: आज की इस लेख में Engineer kaise Bane उसके बारे में बताया गया है जैसे कि इंजीनियर कैसे बने, इंजीनियर बनने की फीस, बेस्ट इंजीनियरिंग कॉलेज, इंजीनियरिंग की शाखाएं, इंजीनियर की सैलरी इत्यादि।

हमे लगता है यह लेख पढ़ने के बाद आपको दूसरी बाद गूगल में सर्च करने की आवश्यकताएं नहीं होगी कि इंजीनियर कैसे बनते है।

अगर आपको यह जानकारी पसंद आई है तो आपके दोस्तों से यह लेख साझा कीजिये ताकि उन्हें भी इसके बारे में बारीकियों से सटीक जानकारी मिले।

ऐसे ही करियर संबंधित जानकारी के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े जहां कोर्स, करियर और नौकरी से जुड़े अपडेट मिल जाएगा।

यह पढ़े:

CS kaise BaneIPS kaise Bane
MBBS Doctor kaise Banex ray technician kaise Bane
Nurse kaise BanePhysiotherapist kaise Bane
Lab technician kaise BaneBHMS Doctor kaise Bane
दोस्तों के साथ शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.