कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग: योग्यता, फीस, एडमिशन, नौकरी, सैलरी

कंप्यूटर के इस बढ़ते हुए इस लोकप्रियता को देखते हुए छात्रों के मन मे computer science engineering कोर्स को लेकर खूब उत्सुकता दिखाई दे रही है।

इस बढ़ते हुए अवसर को देखते हुए इंजीनियरिंग की क्षेत्र में करियर बनाने बालों में से ज्यादातर विद्यार्थी कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बारे में सोच रहे है।

अगर आप भी उनमें से कोई है तो आज की लेख आप ही के लिए है, इंसमे हम कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्स के बारे में बात करने वाले है ताकि आपको इस कोर्स के बारे में बारीकियों से पता चले।

तो आइये जानते है, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग क्या है, कैसे इस कोर्स में एडमिशन ले सकते है, कोर्स की फीस कितनी है, क्या क्या सब्जेक्ट्स पढ़ना होता, बेस्ट कॉलेज कौन से है, स्कोप क्या है, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की सैलरी कितनी होती है, इत्यादि।

Contents hide
1 कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग (CSE क्या है)

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग (CSE क्या है)

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग एक बीटेक या बिई इंजीनियरिंग कोर्स है, जिसकी समयावधि है 4 साल; इसे आठ सेमेस्टर में बंटा गया है। प्रत्येक सेमेस्टर के बीच छह माह का अंतराल होता है।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्स फीस, एडमिशन, स्कोप, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग सैलरी
कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग

इंसमे कंप्यूटर से जुड़े शिक्षा प्रदान किया जाता है। जैसे कि, कंप्यूटर लैंग्वेज, अल्गोरिथम, हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर, डेटाबेस मैनेजमेंट, इत्यादि। चार साल की इस कोर्स में थ्योरी के साथ साथ प्रैक्टिकल जानकारी भी दी जाती है।

इंसमे दाखिल होने के लिए उम्मीदवारों को साइंस लेकर 12 वी पास करना होता। इंडिया ऐसे सैकड़ों कॉलेज है जो मेरिट के आधार पर अन्यथा एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से कोर्स में दाखिल होने का अवसर प्रदान करते है।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के लिए योग्यता (CSE eligibility)

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की कोर्स में दाखिल होने के लिए विद्यार्थियों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथेमेटिक्स लेकर 12वी या उसके समकक्ष कोई कोर्स करना होता।

और उंसमे न्यूनतम 45 प्रतिशत नंबर प्राप्त करना होता, परंतु एक बात याद रखना बड़े बड़े कॉलेज और यूनिवर्सिटीज में इस नंबर से आपको एडमिशन नहीं मिलेगा। इसलिए आपको 55% – 60% नंबर प्राप्त करनी चाहिए।

इसके अतिरिक्त विद्यार्थियों का आयु कम से कम 17 साल की होनी चाहिए। इंसमे आयु की कोई सर्वाधिक सीमा नहीं है।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के एडमिशन (CSE Admission)

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की कोर्स में मुख्यतः एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से एडमिशन लिया जाता है। इसके लिए कॉलेज की ऑफिशियल वेबसाइट पर नोटिफिकेशन जारी किया जाता है।

उसके बाद विद्यार्थी को फॉर्म भरना होता, जिसमे अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, शैक्षणिक योग्यता, इत्यादि भरना होता। इसके पश्चात आवेदन शुल्क जमा करके फॉर्म सबमिट कर देना है।

इसके कुछ दिन पश्चात एग्जाम में हिस्सा लेना होता और उंसमे प्राप्त नंबर के आधार पर काउंसलिंग में हिस्सा लेना पड़ता। उसके बाद दस्तावेजों की सत्यापन करके एडमिशन फीस जमा देने के पश्चात एडमिशन लेना होता।

कुछ कॉलेज में मेरिट के आधार पर एडमिशन मिलते है। ऐसे कॉलेज में एडमिशन के लिए 12वी में प्राप्त नंबर को महत्व दिया जाता है। इसी नंबर के आधार पर मेरिट लिस्ट जारी किया जाता है। उसके बाद दस्तावेजों को सत्यापित करके एडमिशन फीस जमा करके कोर्स में एडमिशन लेना होता।

इसके अलावा कुछ कॉलेज और यूनिवर्सिटीज है जहां डायरेक्ट एडमिशन मिलता है। विद्यार्थियों को ऐसे कॉलेज में एडमिशन के लिए ज्यादा कुछ करने की आवश्यकता नहीं पड़ती; कॉलेज के साथ कांटेक्ट करके एडमिशन फीस जमा करने के पश्चात दाखिला लेना होता।

यह पढ़े:

Electronics and communication engineering

होटल मैनेजमेंट कोर्स इनफार्मेशन

Psychologist kaise Bane

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग आवेदन प्रॉसेस (CSE Application)

इसके लिए आवेदन करने हेतु विद्यार्थियों को 12वी पास करने के पश्चात जब फॉर्म निकालते है तब कॉलेज की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन शुल्क जमा करके आवेदन करना होता।

इसके लिए पहले Apply Online/Online Admission का बटन पर क्लिक करके अपना नाम, डेट ऑफ बर्थ, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी देकर रजिस्ट्रेशन करना होता। उसके बाद यूजर आईडी और पासवर्ड मिल जाता है, उसके जरिये लॉगिन करके अपने सारे डिटेल्स, शैक्षणिक योग्यता आदि भरकर आवेदन प्रक्रिया समाप्त करना होता।

उसके बाद आवेदन पत्र का प्रिंट आउट निकालकर अपने पास रखना है आगे की एडमिशन प्रक्रिया के लिए।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम (CSE Entrance Exam)

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्स में एडमिशन के लिए बहुत से एंट्रेंस एग्जाम है, जिसके बारे में आगे बताया गया है;

• JEE Main
• WB JEE
• MHTCET
• KIITEE
• VITEEE
• MET
• BITSAT
• SRMJEEE
• AP EAMCET
• COMEDK UGET

बेस्ट कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कॉलेज (CSE Colleges)

• IIT Bombay – Indian Institute of Technology,
• Delhi Technological University, New Delhi, Delhi
• Jamia Millia Islamia, New Delhi, Delhi
• Maharaja Sayajirao University of Baroda, Vadodara, Gujarat
• College of Engineering, Pune, Maharashtra
• Veermata Jijabai Technological Institute, Mumbai, Maharashtra
• Indian Institute of Technology, Chennai, Tamil Nadu
• LD College of Engineering, Ahmedabad, Gujarat
• Indian Institute of Engineering Science and Technology, Howrah, West Bengal
• Jadavpur University, Kolkata, West Bengal
• Andhra University College of Engineering, Visakhapatnam, Andhra Pradesh
• Motilal Nehru National Institute of Technology Allahabad Prayagraj, Uttar Pradesh
• Dr Ambedkar Institute of Technology, Bangalore, Karnataka
• Punjab Engineering College, Chandigarh, Punjab

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के समयावधि (CSE Duration)

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की बीटेक या बिई कोर्स 4 साल की है। इंसमे कुल आठ सेमेस्टर देना होता, जो प्रत्येक छह माह के बाद कॉलेज द्वारा आयोजित किया जाता है। इसकी अलग अलग सेमेस्टर में अलग अलग सब्जेक्ट्स के बारे में पढ़ना होता जिसके बारे में नीचे बताया गया है।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्स फीस (CSE Course fees)

कोर्स की फीस बहुत से चिंजो के ऊपर निर्भर करती है; जैसे कि, कॉलेज सरकारी है या प्राइवेट, कॉलेज की रेपुटेशन, एडमिशन प्रॉसेस, प्लेसमेंट कैपेबिलिटी, इत्यादि। अगर सरकारी कॉलेज होता है तो प्राइवेट कॉलेज की तुलना में फीस कम लगेगा।

फिरभी यदि कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्स की औसतन फीस देखा जाए तो ₹2,00,000 से ₹7,00,000 होती है। यह कोई निश्चित रकम नहीं है, यहां हमने एवरेज फीस के बारे में बताये है। असल मे कॉलेज की फीस थोड़ा कम या ज्यादा हो सकता है।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग सब्जेक्ट्स और सिलेबस (CSE Syllabus & Subjects)

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में कई सारे सब्जेक्ट्स पढ़ाया जाता है। यहां हमने कुछ कोर सब्जेक्ट्स के नाम बताये है;

• इंजीनियरिंग फिजिक्स
• इंजीनियरिंग मैथेमेटिक्स
• बेसिक एलेक्टोनिक्स
• प्रोग्रामीं लैंग्वेज
• डाटा स्ट्रक्चर विथ सी
• डिज़ाइन एंड एनालिसिस ऑफ अल्गोरिथम
• माइक्रोप्रोसेसर
• सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग
• डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम
• ऑपरेटिंग सिस्टम
• कंप्यूटर नेटवर्क
• कम्पाइलर डिज़ाइन
• यूनिक्स सिस्टम प्रोगमिंग
• सॉफ्टवेयर आर्किटेक्चर
• java एंड J2EE
• डाटा वेयरहाउसिंग एंड डाटा माइनिंग

ध्यान रहे, कॉलेज के हिसाब से सब्जेक्ट में भी थोड़ा बहुत अंतर होता है; किसी कॉलेज में एक-दो ज्यादा सब्जेक्ट्स होते है तो किसी मे कम।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के बाद क्या करे (Scope of CSE)

अगर आप कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे है या करने जा रहे है तो इस कोर्स के स्कोप के बारे में आपको अवश्य पता होनी चाहिए।

यदि आप कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में बीटेक या बिई करने के पश्चात हायर स्टडी करना चाहते है तो एमटेक या एमई इन कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कर सकते है, अन्यथा ऐसे डिग्री धारकों के लिए प्राइवेट तथा गवर्नमेंट सेक्टर में नौकरी करने का अच्छा अवसर मिलता है।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग जॉब सेक्टर्स

• TCS
• HCL
• Tech Mahindra
• Infosys
• Wipro
• Google
• Facebook
• Adobe
• Microsoft
• Oracle
• Amazon
• Flipkart
• Cognizant
• IBM

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग जॉब प्रोफाइल

• डाटा साइंस
• डेटाबेस मैनेजमेंट
• कंप्यूटर ग्राफ़िक्स
• आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस
• कंप्यूटर मैन्युफैक्चरिंग
• वेब ऍप्लिकेशन्स
• वीडियो गेम डेवलपमेंट
• मोबाइल एप्लीकेशन डेवलपमेंट
• एनीमेशन
• एथिकल हैकिंग
• नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेशन
• वेब डेवलपमेंट

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग सैलरी

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की बीटेक या बिई डिग्री धारकों की मांग हमारे देश के साथ साथ विदेशों में भी बहुत है। हर नौकरी की तरह इंसमे भी काम के क्षेत्र, पद और एक्सपीरियंस के आधार पर सैलरी पैकेज निर्धारित की जाती है।

यदि औसतन सैलरी पैकेज की बात करे तो सुरूवाती दौर में फ्रेशर्स को ₹ 2,50,000 से ₹10,00,000 प्रति वर्ष सैलरी मिलते है, परंतु एक्सपीरियंस हो जाने के बाद सैलरी बढ़कर ₹25,00,000 से ₹35,00,000 प्रति वर्ष तक हो सकती है।

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग से जुड़े सवाल जवाब

• कंप्यूटर इंजीनियरिंग डिप्लोमा कोर्स

अगर आप कंप्यूटर इंजीनियरिंग की डिप्लोमा करना चाहते है तो आपको DCS Course करना होगा, जो तीन साल की कोर्स है। जिन विद्यार्थियों को जल्द नौकरी की तलाश है उनके लिए यह कोर्स काफी अच्छी होगी।

• कंप्यूटर साइंस इंजीनियर का काम क्या होता है?

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्स के पश्चात इंजीनियर बन जाने के बाद इंडस्ट्रीज में टेक्नोलॉजी से जुड़े काम करना पड़ता है। मुख्यतः कंप्यूटर साइंस इंजीनियर को कंप्यूटर हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, नेटवर्किंग, से जुड़े काम करना होता। इसके डिटेल्स लेख में विस्तार से बताया गया है।

• कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग सैलरी इन इंडिया

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के डिग्री धारकों को इंडिया में सुरूवाती दौर में ₹2,50,000 से ₹15,00,000 का पैकेज मिल जाता है। जैसे जैसे एक्सपीरियंस बढ़ती है सैलरी में भी बढ़ोतरी होना सुरु हो जाते है।

निष्कर्ष: आज की लेख में हम कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्स के बारे में विस्तार से चर्चा की है जैसे कि कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग क्या है, एंट्रेंस एग्जाम, एडमिशन प्रॉसेस, बेस्ट कॉलेज, कोर्स फीस, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग सब्जेक्ट्स, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग जॉब्स, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग सैलरी, इत्यादि।

आशा करते है आपको आज की लेख पसंद आई होगी अगर पसंद आई है तो अपने दोस्तों के साथ इस लेख को फेसबुक, व्हाट्सऐप जैसे सोशल मीडिया में ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि उन्हें भी इस कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के बारे में सही जानकारी मिले।

कोर्स और करियर से जुड़े जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग फुट्यूरेबनाये को Bookmark करके रखिये और हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े।

दूसरे महत्वपूर्ण कोर्स:

Bsc kya HaiMechanical engineer kaise Bane
Graduation kya HaiBiotechnology in Hindi
Post graduation kya HaiAutomobile engineer kaise Bane
B.ed kya HaiAgriculture engineer kaise Bane
MBA kya HaiPlastic engineer kaise Bane
Pharmasist kya HaiSoftware engineer kaise Bane
Diploma kya HaiDoctor kaise Bane
M pharm kya HaiX Ray Technician kaise Bane
BBA kya HaiPolice Constable kaise Bane

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Telegram