CMA Course Details योग्यता, एडमिशन, फीस, स्कोप, नौकरी, सैलरी

CMA Course Details in Hindi: पिछले आर्टिकल में हमने CS कोर्स के बारे में चर्चा किये थे परंतु आज एक और फाइनांस और अकाउंट से जुड़े कोर्स से आपको रूबरू करवाएंगे जिस कोर्स नाम है CMA Course यह सीएस की तरह ही एक कोर्स है जिसे कॉस्ट एंड मैनेजमेंट एकाउंटिंग के नाम से जाने जाता है।

अगर आपको CMA Course Details में जानना है तो इस लेख को आखिरी तक ध्यान पूर्वक पढ़े यहां CMA Course क्या है, सीएमए कोर्स के लिए योग्यता, सीएमए कोर्स के एडमिशन, स्कोप, नौकरी, टॉप रिक्रूटिंग कंपनी तथा सैलरी के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।

भारत के युवा पीढ़ियों को एंटरप्रेन्योरशिप की ओर प्रात्साहित करने हेतु जितने भी प्रशिद्ध डिग्रियां है उनमें से एक है CMA Course. यह मूल रूप से उन स्टूडेंट्स के लिए बनाई गई है जिनके रुचि खासकर फाइनेंस, कैपिटल मार्किट, टैक्स मैनेजमेंट आदि से संबंधित हो।

बिजनेस छोटा हो है बड़ा उसका फाइनेंस मैनेजमेंट हमेशा तगड़ा होना चाहिए, यह किसी भी सफल बिजनेस का मौलिक सिद्धांतों में से एक है। आज के समय हर कंपनी तथा बिजनेस ओनर ऐसे योग्य और अनुभवी उम्मीदवारों का तलाश कर रहे है जो उनके बिजनेस का फाइनेंस सही से मैनेज करने में सक्षम हो सके।

और CAM Course एक ऐसा कोर्स है जिसके माध्यम से ऐसे पेशेवर उम्मीदवारों का निर्माण किया जाता है। इस कोर्स का वैश्विक स्तर पर मान्यता होने के नाते ऐसे उम्मीदवारों का मांग विदेशों में भी काफी अच्छी है।

CMA Course Details in Hindi

CMA का पूरा नाम है “Cost and Management Accounting” हिंदी में जिसे “लागत और प्रबंधन लेखांकन” के नाम से जाना जाता है। यह एक प्रोफेशनल कोर्स है जिसे 3 से 4 साल समय लगता है पूरा करने में। इस कोर्स को तीन हिस्से में बंटा गया है; फाउंडेशन कोर्स, इंटरमीडिएट कोर्स तथा फाइनल कोर्स।

इंडिया में इस कोर्स को ICMAI (इंस्टिट्यूट ऑफ कॉस्ट एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया) द्वारा संचालित किया जाता है। इस कोर्स को करने के लिए विद्यार्थियों को न्यूनतम 12वी पास करना पड़ता है हालांकि, आप 10वी के बाद ही इस कोर्स के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते है।

जो विद्यार्थियों सफलतापूर्वक CAM Course पूरा करते है उन्हें कॉस्ट अकाउंटेंट कहा जाता है। ऐसे उम्मीदवारों को सरकारी, गैर सरकारी सेक्टर, बैंकिंग एंड फाइनेंस सेक्टर, एजुकेशन, डेवलपमेंट एजेंसी, रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेक्टर जैसे जगह में काम मिलते है।

ध्यान रहे: बहुत से स्टूडेंट्स के मन मे ICWAI, ICMAI, ICWA और, CMA को लेकर संशय होती है। लेकिन इंसमे संशय वाली कोई बात नहीं, ICWAI और ICMAI एक ही है इंसमे कोई अंतर नहीं है। ICWAI (इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट एंड वर्क्स एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया) ने अपना नाम बदलकर ICMAI (इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया) रख लिया है।

ठीक उसी तरह CMA Course को पहले ICWA कोर्स के नाम से जाना जाता था पर अभी इस कोर्स का नाम बदलकर CMA (कॉस्ट एंड मैनेजमेंट एकाउंटिंग) हो गया है।

CMA Course details in hindi
CMA Course Details

CMA Course Eligibility (CMA Course के योग्यता)

CMA course के लिए योग्यता की बात करे तो, उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+2 पास करना होगा। 10+2 में आप किसी भी स्ट्रीम लेकर पढ़ाई कर सकते है। हालांकि स्कूल में जिन स्टूडेंट्स ने बीकॉम लेकर पढ़ाई की है उनके लिए CMA एक शानदार कोर्स है।

आपको बताते चलूं की, आप 10वी के बाद ही CMA के फाउंडेशन कोर्स के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते है हालांकि, फाउंडेशन एग्जाम में बैठने के लिए आपको 10+2 या इसके समकक्ष कोई कोर्स पास करना ही होगा।

इसके अलावा कोई चाहे तो इसके इंटरमीडिएट कोर्स में डायरेक्ट एडमिशन ले सकते है परंतु ऐसे में उन्हें पहले किसी विषय लेकर ग्रेजुएशन डिग्री पास (फाइन आर्ट्स को छोड़कर) करना होगा या 10+2 के साथ फाउंडेशन कोर्स करना होगा तभी इंटरमीडिएट कोर्स के लिए एलिजिबल होंगे।

CMA Course Kaise Kare

CMA Course करने के लिए आपको निम्नलिखित स्टेप्स को ध्यानपूर्वक स्टेप बाय स्टेप फॉलो करना होगा;

स्कूल की पढ़ाई पूरी करे: CMA Course करने के लिए विद्यार्थियों को सबसे पहले अपने स्कूल की पढ़ाई पूरी करनी होगी। आप 10वी के बाद CMA के फाउंडेशन कोर्स के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते है। परंतु एग्जाम में बैठने के लिए 10+2 उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।

सीएमए कोर्स चुने: आपको पहले ही पता चल गया होगा कि सीएमए कोर्स को तीन भागों में बंटा गया है; फाउंडेशन कोर्स, इंटरमीडिएट कोर्स और फाइनल कोर्स।

• CMA फाउंडेशन कोर्स: 10वी के बाद कोई भी उम्मीदवार CMA फाउंडेशन कोर्स के लिए आवेदन कर सकते है। हालांकि फाउंडेशन कोर्स का एग्जाम देने के लिए उम्मीदवारों को न्यूनतम 10+2 पास करना अनिवार्य है। इस कोर्स का समयावधि है 8 महीना।

• CMA इंटरमीडिएट कोर्स: यह 10 महीने की कोर्स है जिसे फाउंडेशन कोर्स के बाद किया जाता है। यदि आप किसी विषय मे ग्रेजुएशन कोर्स किये है तो आप इस CMA Course के इंटरमीडिएट कोर्स में सीधा एडमिशन ले सकते है।

• CMA फाइनल कोर्स: सीएमए कोर्स की फाइनल वाले भागे में एडमिशन के लिए विद्यार्थियों को 10 महीने की इंटरमीडिएट कोर्स सफलतापूर्वक पूरा करना होगा, उसके बाद इस कोर्स में एडमिशन ले पाएंगे। इस कोर्स का समयावधि है 18 महीने।

CMA Course के लिए करे आवेदन: CMA कोर्स के लिए आवेदन करने हेतु ICMAI के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा, इसके पश्चात Online Admission पर क्लिक करना है उसके बाद आपके सामने एडमिशन का नई पेज खुल जायेगा।

अब पासपोर्ट साइज फ़ोटो कॉपी, सिग्नेचर की कॉपी, ऐज प्रूफ सर्टिफिकेट के तौर माध्यमिक का एडमिट कार्ड, और 10वी तथा 12वी की मार्कशीट का स्कैन कॉपी अपलोड करके आवेदन करना होगा।

अच्छे नंबरों से सीएमए कोर्स पास करे: पढ़ाई के दौरान आप का एक ही उद्देश्य होना चाहिए कि अच्छे अंको के साथ इस कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा किया जाए। इंसमे उत्तीर्ण होने के लिए विद्यार्थियों को हर विषय मे कम से कम 40 प्रतिशत नंबर प्राप्त करना अनिवार्य है, और सभी सब्जेक्ट्स को मिलाकर एवरेज 50 प्रतिशत नंबर प्राप्त करना होगा।

CMA Course Duration (CMA कोर्स की समयावधि)

CMA Course Details in Hindi की इस भाग में हम जानेंगे सीएमए कोर्स की समयावधि के बारे में। जैसे कि आपको पता है सीएमए कोर्स में तीन भाग है; फाउंडेशन, इंटरमीडिएट और फाइनल। इनमें से फाउंडेशन कोर्स के लिए 8 महीने, इंटरमीडिएट सीएमए कोर्स के लिए 10 महीने और बाकी फाइनल कोर्स के लिए 18 महीने समय लगते है। यानी CMA Course को पूरा करने में कुलमिलाकर 3 साल समय लगते है।

महत्वपूर्ण लेख:

CMA Course Fees (CMA कोर्स की फीस)

CMA Course की तीनों भागों के लिए फी स्ट्रक्चर अलग अलग होती है जो निम्नलिखित स्टेप्स में विस्तृत चर्चा की गई है;

• सीएमए फाउंडेशन कोर्स फीस: फाउंडेशन कोर्स की फीस देखा जाए तो ₹6000 है।

• सीएमए इंटरमीडिएट कोर्स फीस: सीएमए की इंटरमीडिएट कोर्स का फीस है ₹23,100

• सीएमए फाइनल कोर्स फीस: सीएमए की फाइनल वाले पार्ट के लिए टोटल फीस लगते है ₹25,000

Career Prospects CMA Course (CMA कोर्स के बाद क्या करे)

तीन साल की सीएमए कोर्स के बाद सफलतापूर्वक उत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थियों के लिए पब्लिक तथा कॉरपोरेट सेक्टर में नौकरी करने का अपार संभावनाएं रहते है। इसके अलावा ऐसे डिग्री धारकों को विदेशों में हाई सैलरी पैकेज प्रदान करके नियुक्त किया जाता है।

आज के समय ऐसे पेशेवर उम्मीदवारों की मांग सरकारी सेक्टर, प्राइवेट सेक्टर, डेवलपमेंटल एजेंसिस, बैंकिंग और फाइनेंस इंस्टीट्यूट्स, ट्रेनिंग एंड रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन, एजुकेशन सेक्टर, और पब्लिक सेक्टर में काफी अधिक है।

ऐसे अभ्यर्थी आज के समय मैनेजमेंट की क्षेत्र में अपना दबदबा कायम कर रहा है। यदि जॉब प्रोफाइल की बात करे तो, ऐसे पेशेवर व्यक्तियों को सरकारी तथा प्राइवेट एंटरप्राइज में चेयरमैन, मैनेजिंग डायरेक्टर, फाइनेंशियल डायरेक्टर, कॉस्ट कंट्रोलर, चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर, फाइनेंस डायरेक्टर, चीफ इंटरनल ऑडिटर, मार्केटिंग मैनेजर, जैसे बड़े बड़े पोस्ट में नौकरी करने का सुनहरा मौका मिलते है।

CMA Salary (CMA ki Salary)

किसी भी कोर्स करने से पहले सबके मन मे एक सवाल जरूर आते है कि कोर्स पूरा होने के पश्चात सैलरी कितना मिलेगा? यदि आपके मन मे भी यह सवाल आ रही है तो आपको बता दे, CMA कोर्स के बाद योग्य तथा एक्सपीरियंस उम्मीदवारों को अच्छी सैलरी पैकेज प्रदान की जाता है।

आमतौर पर सीएमए डिग्री धारक फ्रेशर्स उम्मीदवारों को ₹3,00,000 से ₹15,00,000 का सैलरी पैकेज मिल जाता है, परंतु जैसे जैसे एक्सपीरियंस बढ़ती है सैलरी में भी बढ़ोतरी होना सुरु हो जाते है। यदि एक एक्सपीरियंस कॉस्ट अकाउंटेंट की सैलरी देखा जाए तो ₹10,00,000 से ₹48,00,000 का सालाना सैलरी पैकेज मिल जाता है।

CMA Course Related FAQs

• CMA कितने साल का कोर्स है?

जैसे कि हमने पहले ही बताये है की सीएमए तीन साल का कोर्स होते है। जिसे आठ महीने की फाउंडेशन कोर्स, दश महीने की इंटरमीडिएट कोर्स और अठारह महीने की फाइनल कोर्स में बंटा गया है।

• सीएमए में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

सीएमए कोर्स में कई सारे कोर्स होते है जिसमे से कुछ खास सब्जेक्ट्स के नाम है; फंडामेंटल ऑफ बिजनेस लॉ एंड बिजनेस कम्युनिकेशन, फंडामेंटल ऑफ फाइनांशियल एंड कॉस्ट एकाउंटिंग, डायरेक्ट एंड इनडाइरेक्ट टैक्सेशन, कॉर्पोरेट एकाउंटिंग एंड ऑडिटिंग, फाइनांशियल मैनेजमेंट, डेटा एनालिस्ट, इनकम टैक्स लॉ एंड प्रैक्टिस, एंटरप्रेन्योरशिप एंड स्टार्ट-अप जैसे विषयों पढ़ना होता है।

• मैं भारत में सीएमए कैसे बन सकता हूं?

सीएमए कोर्स करने के लिए सबसे पहला कदम है विद्यार्थियों को अच्छे अंकों से 10+2 या इसके समतुल्य कोर्स करना होगा। उसके बाद ICMAI के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर फाउंडेशन कोर्स के लिए आवेदन करना है।

जैसे ही आप फाउंडेशन कोर्स पूरा कर लेंगे उसके बाद इंटरमीडिएट और फाइनल कोर्स करना है। जैसे ही आप इन स्टेप्स को सफलतापूर्वक पूरा करेंगे इसके बाद आप कॉस्ट अकाउंटेंट बन जाएंगे।

• CMA का क्या काम है?

सीएमए एक प्रोफेशनल कोर्स है। इस कोर्स में मुख्यतः कॉस्ट एंड फाइनेंस मैनेजमेंट से जुड़े शिक्षा प्रदान किया जाता है ताकि आगे चलकर सरकारी, पब्लिक तथा कॉर्पोरेट सेक्टर में फाइनेंस मैनेजमेंट का काम कर सके।

• सीएमए में कितने एग्जाम होते हैं?

सीएमए कोर्स की तीन पार्ट के लिए तीन फाइनल एग्जाम लिया जाता है। जिसके बारे में आपको पहले ही बताये है।

निष्कर्ष: आज की इस पोस्ट में हमने CMA Course Details in Hindi के बारे में चर्चा किये है। हमे आशा है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। यदि पसंद आई है तो अपने दोस्तों के साथ फेसबुक तथा व्हाट्सऐप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये।

आप कॉमेंट सेक्शन में अपना राय बता सकते है। इसके अलावा यदि हमारे लिए कोई सुझाव है तो कमेंट सेक्शन में बताये इससे हमे अपने कंटेंट सुधारने में मदत मिलेगी।

और यदि आप को कोर्स और करियर से जुड़े सही जानकारी बिल्कुल फ्री में पाना है तो हमारे ब्लॉग FutureBanaye.com को अपने ब्राउज़र के बुकमार्क करके रखिये और हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़िये जहां हम रोजाना एजुकेशन से जुड़े जानकारी साझा करते रहते है।

दूसरे महत्वपूर्ण लेख:

दोस्तों के साथ शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *