Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

CHO Ka Full Form, योग्यता, सिलेबस, एग्जाम, सैलरी की पूरी सच

CHO ka full form: क्या आप CHO यानी Community Health Officer के बारे में जानना चाहते है? अगर ऐसा है तो आज की लेख आपके लिए महत्वपूर्ण होने वाली है क्योंकि इस लेख में हम CHO पद से जुड़े सारे जानकारी विस्तार से चर्चा करेंगे।

आज के समय नेशनल हेल्थ मिशन के तहत लगभग सभी राज्य में community health officer को ग्रामीण इलाकों में डॉक्टर के रूप में नियुक्ति किया जा रहा है ताकि प्राइमरी हेल्थ सेंटर में लोगों को बेहतर से बेहतर चिकित्सा व्यवस्था मुहैया करवाया जाए।

CHO की नियुक्ति के लिए राज्य सरकार समय समय पर वेकैंसी निकालती रहती है। अगर किसी उम्मीदवार एलिजिबल होते है तो उन्हें आवेदन करके सीएचओ बनने की प्रक्रिया में शामिल होने पड़ते।

अगर आपको पता नहीं कि CHO कैसे बने, CHO ka full form क्या है, CHO क्या है, सीएचओ को क्या काम करना पड़ता है, CHO बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए, सीएचओ की सैलरी कितनी है, इत्यादि तो हमारे इस लेख को आखरी तक ध्यान से पढ़े, आशा करते है आपके सारे सवाल का जवाब मिल जाएगा।

CHO ka Full Form (CHO kya Hai)

CHO का पूरा नाम है ‘Community Health Officer’ हिंदी में जिसे ‘सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी’ के नाम से भी जाने जाते है। इसे नेशनल हेल्थ मिशन के तहत इस उद्देश्य से चलाई जा रही है कि ग्रामीण क्षेत्र के प्राइमरी हेल्थ सेंटर, सब सेंटर आदि में प्राथमिक चिकित्सा की सुविधाएं आसानी से उपलब्ध कराई जाए।

CHO ka full form, CHI ki salary
CHO ka full form

प्राइमरी हेल्थ सेंटर, सब सेंटर आदि में नियुक्त होने वाले सीएचओ का मुख्य काम होता है मरीजों की आपातकालीन स्थिति में प्राथमिक चिकित्सा प्रदान करके हॉस्पिटल आदि में रेफर करना उत्तम चिकित्सा के लिए।

ऐसे में सीएचओ बनने हेतु उम्मीदवारों को मान्यता प्राप्त कॉलेज से अपनी नर्सिंग कोर्स पूरी करनी पड़ती है। इसके बाद सीएचओ बनने हेतु ली जाने वाली प्रतियोगी परीक्षा में उत्तीर्ण होना पड़ता। इस परीक्षा में हिस्सा लेने के लिए उम्मीदवारों के पास कुछ पात्रता मानदंड होना अनिवार्य है, जिसके बारे में आगे बताया गया है;

CHO Eligibility (CHO के लिए योग्यता)

CHO बनने हेतु उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से GNM Nursing/Bsc Nursing/Post Basic Nursing/BAMS का डिग्री प्राप्त करना होता। साथ मे उन्हें अपने राज्य के नर्सिंग काउंसिल से रजिस्ट्रेशन प्राप्त करना पड़ता। इसके अतिरिक्त कुछ राज्य में सीएचओ पद में आवेदन करने के लिए एक्सपीरियंस का भी मांग की जाती है।

इंसमे आयु की कोई लिमिट नहीं है अगर आप मे बताई गई एक्सपीरियंस है तो आप CHO के लिए ली जाने वाली एग्जाम में हिस्सा ले सकते है।

CHO kaise Bane

सीएचओ बनने के लिए किसी भी उम्मीदवारों को पहले 10+2 की पढ़ाई पूरी करनी होगी किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से। इसके बाद उन्हें जीएनएम नर्सिंग, बीएससी नर्सिंग, या BAMS में से कोई भी एक कोर्स करना होगा। अगर जीएनएम नर्सिंग करेंगे तो 10+2 में कोई भी स्ट्रीम (साइंस/आर्ट्स/कॉमर्स) का चयन कर सकते है अन्यथा बीएससी नर्सिंग करेंगे तो 10+2 में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी सब्जेक्ट्स का होना अनिवार्य है।

10+2 पूरा करने का बाद आप अपने अनुसार किसी नर्सिंग डिग्री पूरा कर ले और कोर्स पूरा होने के पश्चात अपने राज्य के नर्सिंग काउंसिल अपना नाम रजिस्टर करवा लें। कुछ राज्य में एक्सपीरियंस की जरूरत पड़ती है इसलिए सरकारी नौकरी मिले नियुक्त हो जाये।

इसके बाद जॉब सीएचओ के लिए भर्ती फॉर्म निकाली जाए उसे अधिकारी वेबसाइट पर जाके भरे। फॉर्म भरने कस कुछ दिन पश्चात एग्जाम आयोजित किया जाता है, जिसमे कम्युनिटी हेल्थ नर्सिंग, साइकियाट्रिक नर्सिंग, चाइल्ड हेल्थ नर्सिंग, मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग, बेसिक एनाटोमी एंड फिजियोलॉजी, आदि से जुड़े सवाल पूछे जाते है।

CHO बनने के लिए ट्रेनिंग का समयावधि

CHO ka full form, CHO कैसे बने यह जानने के बाद अब आइये जानते है सीएचओ कोर्स की समयावधि कितनी है। CHO बनने हेतु उम्मीदवारों को 6 महीने की CCH यानी Community Health Certificate Course की ट्रेनिंग दी जाती है। इंसमे थ्योरी के साथ साथ प्रैक्टिकल ज्ञान प्रदान किया जाता है।

CHO Salary (CHO ki Salary)

अगर आप CHO की सैलरी के बारे में जानना चाहते है तो आपको बता दूं, CHO को बहुत ही आकर्षक मंथली सैलरी पैकेज मिलता है। राज्य के हिसाब से सैलरी में थोड़ा अंतर होता है पर यदि हम औसतन सैलरी की बात करे तो हर महीने ₹25,000 से ₹40,000 के बीच सैलरी प्रदान किया जाता है, इसके साथ अलाउंस भी मिलता है।

आपको बता दे CHO के लिए ली जाने वाली एग्जाम के पश्चात जिन उम्मीदवारों को चुना जाता है ट्रेनिंग के लिए उन्हें हर महीने सैलरी भी प्रदान किया जाता है।

CHO से जुड़े सवाल जवाब

• क्या हर कोई CHO बन सकते है?

नहीं, सीएचओ बनने हेतु उम्मीदवारों को अपनी 10+2 की पढ़ाई पूरी करनी पड़ती है। इसके बाद जीएनएम/बीएससी नर्सिंग/पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग/बीएएमएस में से कोई भी डिग्री हासिल करना होता इसके पश्चात ही CHO बनने की योग्यता हासिल होती है।

• क्या CHO सरकारी नौकरी है?

जी है, CHO एक सरकारी नौकरी है जिसे नेशनल हेल्थ मिशन के तहत लगभग सभी राज्य से चलाई जा रही है।

• क्या CHO परमानेंट नौकरी है?

नहीं, यह कांट्रेक्चुअल नौकरी है जिसके आर्डर हर साल रिन्यू करना पड़ता है।

• CHO का सिलेक्शन प्रॉसेस क्या है?

कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर का चयन प्रतियोगी लिखित परीक्षा, इंटरव्यू और स्किल टेस्ट के माध्यम से होता है।

निष्कर्ष: आज की पोस्ट में हम CHO ka full form, CHO कैसे बने, CHO ki salary, इत्यादि के बारे में विस्तार से चर्चा करने की कोशिश की। आशा करते है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। अगर पसंद आई है तो अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि उन्हें ही Community Health Officer के बारे में पता चले।

अगर आपको कोर्स और करियर से जुड़े जानकारी चाहिए तो हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब करे एबं हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े जिस का लिंक आपको नीचे मिल जाएगा।

महत्वपूर्ण लेख:

ANM Nursing Course Details

. Psychologist kaise Bane

दोस्तों के साथ शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.